उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले ढह गया BSP का एक और स्तंभ!

एक भावनात्मक पत्र में सुखदेव राजभर ने कहा कि जिस तरह से बहुजन आंदोलन दिन-ब-दिन कमजोर होता जा रहा है और जिस तरह से सरकार वंचितों की आवाज दबा रही है, उससे वह स्तब्ध हैं। उन्होंने बीएसपी संस्थापक कांशीराम के साथ अपने जुड़ाव को याद किया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी का एक और स्तंभ ढह गया है। पूर्व अध्यक्ष और बीएसपी के वरिष्ठ नेता सुखदेव राजभर ने सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा की और औपचारिक रूप से अपने बेटे कमलाकांत राजभर पप्पू को सत्ता सौंप दी।

शनिवार की रात जारी एक भावनात्मक पत्र में सुखदेव राजभर ने कहा कि जिस तरह से बहुजन आंदोलन दिन-ब-दिन कमजोर होता जा रहा है और जिस तरह से सरकार वंचितों की आवाज दबा रही है, उससे वह स्तब्ध हैं। उन्होंने बीएसपी संस्थापक कांशीराम के साथ अपने जुड़ाव को याद किया और अफसोस जताया कि बहुजन आंदोलन अब उतना धारदार नहीं रहा है।


सुखदेव राजभर ने कहा है कि उन्हें खुशी है कि उनके बेटे ने समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में वंचितों के लिए अपने संघर्ष को आगे बढ़ाने का फैसला किया है। राजभर ने अपने पत्र में कहा, "इसलिए मैंने अपने बेटे को अपनी राजनीतिक विरासत संभालने और गरीबों के उत्थान के लिए अपने संघर्ष को जारी रखने के लिए पीछे हटने और रास्ता बनाने का फैसला किया है।"

सुखदेव राजभर द्वारा बसपा छोड़ने और अपनी राजनीतिक विरासत अपने बेटे को सौंपने की घोषणा समाजवादी पार्टी के लिए एक बड़े लाभ के रूप में देखा जा रहा है। यह बीएसपी के लिए भी एक बड़ा नुकसान है। सुखदेव राजभर एक प्रतिबद्ध बसपा नेता रहे हैं और राजभर समुदाय में उनका काफी दबदबा है। आजमगढ़ के दीदारगंज से पांच बार विधायक और बीएसपी के दिग्गज रहे, वह अपनी गैर-विवादास्पद छवि और बीएसपी के प्रति वफादारी के लिए जाने जाते हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia