मॉडल दिव्या पाहुजा हत्याकांड में एक और खुलासा, एकदम करीब से सिर में मारी गई थी गोली, किया गया अंतिम संस्कार

दिव्या का शव शनिवार को हरियाणा के फतेहाबाद जिले के टोहाना में एक नहर से बरामद किया गया। वो शव भी नहर में 150 किलोमीटर तक आगे चला गया था, बाद में बॉडी पर लगे एक टैटू की वजह से दिव्या की पहचान हुई।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिव्या पाहुजा मर्डर केस में हर दिन खुलासे हो रहे हैं। दिव्या पाहुजा का शव ग्यारह दिन बाद 13 जनवरी को फतेहाबाद जिले की एक नहर से बरामद किए जाने के बाद रविवार को उसके परिवार के सदस्यों ने अंतिम संस्कार किया। दिव्या के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला है कि आरोपी अभिजीत ने दिव्या को बिल्कुल करीब से गोली मारी थी। बताया गया है कि गोली प्वाइंट ब्लैक रेंज से चलाई गई है। इसका मतलब ये है कि बंदूक माथे पर रखी गई और फिर गोली फायर हुई। 

दिव्या का शव शनिवार को हरियाणा के फतेहाबाद जिले के टोहाना में एक नहर से बरामद किया गया। वो शव भी नहर में 150 किलोमीटर तक आगे चला गया था, बाद में बॉडी पर लगे एक टैटू की वजह से दिव्या की पहचान हुई। बाद में परिवार को भी दिव्या की तस्वीर भेजी गई और जब शव की पुष्टि हो गई, तब पोस्टमार्टम को अंजाम दिया गया।

इस बीच, मामले के एक आरोपी बलराज गिल को चार दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। गिल को 11 जनवरी को कोलकाता में गिरफ्तार किया गया था। गिल ने कथित तौर पर 2 जनवरी को दिव्या की हत्या के बाद उसके शव को ठिकाने लगा दिया था।

कोलकाता में उसकी गिरफ्तारी के बाद उसे गुरुग्राम लाया गया और रविवार को एक अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

पुलिस के मुताबिक, दिव्या और अभिजीत रिलेशनशिप में थे। अभिजीत ने पुलिस को बताया कि जब दिव्या ने अपने मोबाइल फोन से उसकी कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें हटाने से इनकार कर दिया तो उसने गुस्से में आकर दिव्‍या के सिर में गोली मार दी। अभिजीत का कहना है कि दिव्‍या ब्‍लैकमेल करती थी। उससे अक्‍सर पैसे मांगा करती थी।

हालांकि, पुलिस को अभी तक हत्या में इस्‍तेमाल किया गया हथियार' बरामद नहीं हुआ है। कथित तौर पर अभिजीत ने दिव्या की हत्या के बाद रिवॉल्‍वर फेंक दी थी। बलराज गिल ने ट्रांजिट रिमांड के दौरान खुलासा किया था कि उसने और रवि बंगा ने दिव्या के शव को पटियाला की बखरा नहर में फेंक दिया था।


दिव्या की हत्या के मामले में पुलिस ने अब तक मुख्य आरोपी अभिजीत सिंह, उसके सहयोगी ओम प्रकाश, हेमराज, बलराज गिल, परवेश और एक महिला मेघा समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है। महिला ने दिव्या के दस्तावेज और निजी सामान छिपाने में अभिजीत की मदद की थी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;