बिहार में बनेगी एंटी लिकर टास्क फोर्स, ग्रामीण क्षेत्रों में लगाएगी शराब के काले कारोबार पर लगाम

पिछले महीने राज्य में कथित तौर पर शराब पीने से बड़ी संख्या लोगों की मौत होने के बाद सीएम नीतीश कुमार ने शराबबंदी कानून का कड़ाई से पालन करवाने का निर्देश अधिकारियों को दिया है। इसके बाद से पुलिस शराब के काले धंधों पर लगाम लगाने के प्रयास में जुटी है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सख्ती के बावजूद राज्य में शराबबंदी कानून का उतना असर नहीं दिख रहा है। ऐसे में अब डीजीपी एस के सिंघल ने जिलास्तर पर 'एंटी लिकर टास्क फोर्स' का गठन करने का आदेश दिया है, जिसकी जिम्मेदारी खासकर ग्रामीण इलाकों में शराब के अवैध कारोबार पर लगाम लगाने की होगी।

दरअसल नीतीश कुमार की सख्ती के बाद शराबबंदी का पालन करवाने को लेकर पुलिस और मद्य निषेध विभाग लगातार प्रयास कर रहे हैं। लेकिन इसके बावजूद राज्य के ग्रामीण इलाकों में अब भी शराब के अवैध कारोबारी की खबरें आ रही हैं। ऐसे में डीजीपी ने अब ग्रामीण इलाकों में होने वाले शराब के अवैध कारोबार पर लगाम लगाने के लिए जिला स्तर पर एंटी लिकर टास्क फोर्स का गठन करने का आदेश दिया है।


राज्य के एक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की मानें तो यह टास्क फोर्स जिला पुलिस के अधीन होगी जो बड़ी कार्रवाई करने में भी सक्षम होगी। उन्होंने कहा कि जिले में कम से कम पांच से छह ऐसी टास्क फोर्स का गठन करने को कहा गया है जो ग्रामीण क्षेत्रों में शराब के धंधे पर लगाम लगा सके।

बताया गया कि इस टीम में होमगार्ड के जवानों के अलावा पुलिस बल के भी जवान होंगे, जिसका नेतृत्व इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारी करेंगे। सूत्रों का कहना है कि यह फोर्स स्वतंत्र रूप से शराब के काले धंधे को रोकने की कार्रवाई करेगी। हालांकि जिलास्तर पर एक एंटी लिकर टास्क फोर्स पहले से काम कर रही है, लेकिन अब इसकी संख्या बढ़ाई जाएगी।


गौरतलब है कि पिछले महीने राज्य में कथित तौर पर शराब पीने से बड़ी संख्या लोगों की मौत होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी कानून का कड़ाई से पालन करवाने का निर्देश अधिकारियों को दिया है। इसके बाद से पुलिस और मद्य निषेध विभाग शराब के काले धंधों पर लगाम लगाने के प्रयास में जुटी है। बिहार में किसी भी तरह की शराब बिक्री और सेवन पर पूर्ण प्रतिबंध है। इस कानून को लेकर प्रारंभ से ही राजनीति भी खूब होती रही है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia