अरब संसद ने पैगंबर के खिलाफ BJP के पूर्व प्रवक्ताओं के बयान की निंदा की, कहा- सहिष्णुता के सिद्धांत के खिलाफ

अरब लीग के विधायी निकाय ने भी आश्चर्य व्यक्त किया कि ऐसे बयान उन राजनीतिक दलों से आए हैं, जिन्हें धर्मों और सभ्यताओं के बीच संयम, सहिष्णुता और संवाद को बढ़ावा देना और देशद्रोह और धार्मिक घृणा को बढ़ावा देने वाले चरमपंथी विचारों से मुकाबला करना है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

काहिरा स्थित अरब संसद ने भारत में सत्ताधारी पार्टी के दो पूर्व प्रवक्ताओं द्वारा पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ की गई 'गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणी' की कड़ी निंदा की है। सोमवार को जारी एक बयान में अरब संसद ने कहा कि "इस तरह के बयान पूरी तरह से सहिष्णुता और अंतरधार्मिक संवाद के सिद्धांत का खंडन करते हैं, जो धर्मों के बीच तनाव और घृणा की स्थिति की ओर जाता है।"

अरब लीग के विधायी निकाय ने भी आश्चर्य व्यक्त किया कि 'ऐसे बयान उन राजनीतिक अधिकारियों द्वारा जारी किए जाते हैं, जिनकी जिम्मेदारी धर्मों और सभ्यताओं के बीच संयम, सहिष्णुता और संवाद को बढ़ावा देना और देशद्रोह और धार्मिक घृणा को बढ़ावा देने वाले चरमपंथी विचारों से मुकाबला करना है।"


गौरतलब है कि पैगंबर पर टिप्पणी के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की प्रवक्ता नूपुर शर्मा को पार्टी के नेतृत्व ने निलंबित कर दिया है और पार्टी की दिल्ली इकाई के मीडिया प्रमुख नवीन जिंदल को निष्कासित कर दिया गया है। बीजेपी ने कहा है कि पार्टी का विचार सभी धर्मों का सम्मान करना है। लेकिन विवादास्पद बयानों ने एक अंतर्राष्ट्रीय हंगामा खड़ा कर दिया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia