गुरूग्राम में तय जगह पर नमाज पर बवाल करने की कोशिश, हिंदू संगठन ने जुमे के दौरान की आरती, लगाए नारे

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि कुछ निवासी नमाज में बाधा डालने के लिए स्थल पर पहुंचे थे। वे नहीं चाहते कि यहां खुले में नमाज जारी रहे। हमने उन्हें बताया कि यह जगह निर्धारित स्थलों की सूची में शामिल है। उन्होंने कहा नमाज अदा की गई और वहां स्थिति शांतिपूर्ण रही।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

हरियाणा के गुरुग्राम के सेक्टर-47 में प्रशासन द्वारा तय सार्वजनिक जगह पर 'नमाज' पढ़ने पर आज बवाल करने की कोशिश हुई। जूमे की नमाज के वक्त हिंदू संगठन के लोग महिलाओं समेत कुछ निवासियों को लेकर वहां पहुंच गए और नमाज का विरोध करने लगे। उन्होंने नारे भी लगाए और नमाज के साथ-साथ 'आरती' भी की। हालांकि, भारी पुलिस बल की तैनाती के कारण घटनास्थल पर नमाज अदा की गई और इलाके में स्थिति शांतिपूर्ण रही।

आज दिन में करीब 12.30 बजे एक हिंदू संगठन के कुछ सदस्य सेक्टर-47 के कुछ निवासियों को लेकर प्रशासन द्वारा तय सामुदायिक नमाज स्थल पर पहुंच गए। आस-पास के क्षेत्रों के करीब 50-60 लोगों का एक समूह और एक हिंदू समूह के सदस्य नमाज के समय "सुरक्षा" और यातायात चिंताओं का हवाला देते हुए खुली जगह में नमाज अदा करने का विरोध कर रहे थे।


एक बढ़ई की दुकान पर काम करने वाले मोहम्मद ताहिर ने बताया कि वह दो साल से अधिक समय से वहां नमाज अदा करने जा रहे थे, लेकिन पिछले दो-तीन हफ्तों के दौरान ही नमाज को लेकर आपत्तियां शुरू हुई। ताहिर ने कहा, "केवल पिछले दो-तीन हफ्तों से, कुछ लोग यहां आते हैं और प्रार्थना में बाधा डालते हैं और हमें क्षेत्र खाली करने के लिए कहते हैं। हम सभी मास्क पहन रहे हैं, कोविड-19 प्रोटोकोल का पालन कर रहे हैं और शांति से नमाज पढ़ रहे हैं।"

सेक्टर-47 के एक निवासी ने कहा, "यह भूमि राज्य सरकार के नियंत्रण में आती है। यहां के निवासियों के रूप में हम सड़कों पर अपने विश्वास का पालन करने वाले और यातायात आंदोलन को बाधित करने पर आपत्ति जताते हैं। यह सभी निवासियों के लिए एक सुरक्षा खतरा है।" निवासियों ने कहा कि जो लोग नमाज का विरोध करने के लिए एकत्र हुए थे, उन्होंने दावा किया कि जिला प्रशासन द्वारा मई 2018 में निर्दिष्ट स्थल केवल एक विशिष्ट अवधि के लिए था।


वहीं, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि कुछ निवासी नजाम में बाधा डालने के लिए स्थल पर पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि वे नहीं चाहते कि यहां खुले में नमाज जारी रहे। हमने उन्हें सूचित किया कि यह स्थल निर्धारित स्थलों की सूची में शामिल है। उन्होंने कहा कि जिस स्थान पर खुले में नमाज अदा की गई, वहां स्थिति शांतिपूर्ण रही।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia