अयोध्या: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में नहीं शामिल होंगे चारों शंकराचार्य,जानें क्या दिए हैं तर्क

प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का कड़े शब्दों में विरोध करते हुए पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा कि हम इस कार्यक्रम में ताली बजाने थोड़े ना जाएंगे।

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में क्यों नहीं जा रहे चारों शंकराचार्य?
रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में क्यों नहीं जा रहे चारों शंकराचार्य?
user

नवजीवन डेस्क

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्योता इस समय देश में चर्चा का विष्य बना हुआ है। केंद्र की बीजेपी सरकार पर प्राण प्रतिष्ठा के जरिए वोट की राजनीति करने के आरोप लग रहे हैं। अयोध्या में 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा है। प्राण प्रतिष्ठा के भव्य कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी समेत कई अहम लोग शामिल होंगे। लेकिन हैरानी की बात यह है कि चारों शंकराचार्यों ने प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की रूप रेखा पर सवाल खड़े करते हुए इससे दूरी बना ली है। पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती के बाद द्वारिका पीठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने सीधे तौर पर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का विरोध किया है। इसके अलावा दो शंकराचार्यों ने भी बयान देकर कार्यक्रम में जाने से सीधे तौर पर मना कर दिया है।

प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का कड़े शब्दों में विरोध करते हुए पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा कि हम इस कार्यक्रम में ताली बजाने थोड़े ना जाएंगे। स्वामी निश्चलानंद समेत चारों शंकराचार्यों वीडियो सोशल मीडिया में पर खूब वायरल हो रहा है। उन्होंने कहा कि रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में शामिल होने के लिए न्योता तो मिला है, लेकिन इसमें उन्हें सिर्फ एक आदमी के साथ आने के लिए कहा गया है।

निश्चलानंद ने यहां तक कह दिया कि अगर 100 आदमी के साथ भी मुझे आने का न्योता मिला होता तब भी मैं इस कार्यक्रम में नहीं जाता। उन्होंने आगे कहा मोदी वहां मूर्ति को स्पर्श करें और वह खड़े होकर ताली बजाएं और जय जयकार करें, यह मुमकिन नहीं है। उन्होंने आगे कहा, भगवती सीता को पहले अपनी बड़ी बहन मानते थे, लेकिन वह खुद छोटी बहन बनना पसंद करती हैं। उनके इस रिश्ते को कोई तोड़ नहीं सकता। ऐसे में मुझे अयोध्या से कोई परहेज नहीं हो सकता।

शारदा पीठ के शंकराचार्य सदानंद सरस्वती ने भी प्राण प्रतिष्ठा के तौर तरीके पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम राम मंदिर का नहीं, बल्कि वोटों का है। उन्होंने कहा कि पौष के अशुभ महीने में प्राण प्रतिष्ठा का कोई कारण नहीं है। शंकराचार्य ने कहा कि यह सीधे तौर पर बीजेपी के राजनीतिक हित को साधने वाला कार्यक्रम है। सदानंद सरस्वती के इस वीडियो को कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने फेसबुक पर शेयर किया है।


हिन्दू महासभा उत्तर प्रदेश ने भी एक वीडियो शेयर किया है। यह वीडियो श्रृंगेरी मठ के शंकराचार्य जगतगुरु स्वामी भारती तीर्थ का बताया गया है। वीडियो में दावा किया गया है रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में शंकराचार्य नहीं जाएंगे। इसमें कहा गया है कि हिन्दू समुदाय को बेवकूफ बनाने और लोकसभा चुनाव से पहले प्रोपेगंडा खड़ा करने के लिए यह बीजेपी का प्रयोजित कार्यक्रम है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;