कोरोना से त्रस्त बिहार के लिए बुरी खबर, केंद्रीय टीम ने प्रकोप बढ़ने की दी चेतावनी, कहा- रहें तैयार

बिहार पहुंची केंद्रीय टीम का कहना है कि आने वाले समय में कोरोना का प्रकोप और बढ़ सकता है। इसको देखते हुए जरूरत है कि अभी से मरीजों के इलाज के प्रति सचेत हो जाएं। आने वाले मरीजों का विश्लेषण करना है और प्रयास करना है कि उसे स्वस्थ किया जाए।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

बिहार में कोरोना संक्रमण के मौजूदा हालात का जायजा लेने आई तीन सदस्यीय केंद्रीय टीम सोमवार को गया पहुंची और अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एएनएमसीएच) का दौरा किया। केंद्रीय टीम में शामिल सदस्यों ने कहा कि आने वाले समय में इस महामारी का प्रकोप और बढ़ सकता है, इसलिए अभी से इसके लिए तैयारी कर लेनी चाहिए।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के नेतृत्व में तीन सदस्यीय टीम ने गया पहुंचकर कोविड-19 के प्रकोप की स्थिति के विभिन्न पहलुओं पर जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक और स्वास्थ विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। इसके बाद टीम और अधिकारी जी़ बी़ रोड स्थित कंटेनमेंट जोन पहुंचे और वहां का जायजा लिया। यहां से केंद्रीय टीम एएनएमसीएच पहुंची और वहां का भी निरीक्षण किया।

एएनएमसीएच के अधीक्षक डॉ पी कुमार ने बताया कि टीम का कहना है कि आने वाले समय में कोरोना का प्रकोप और बढ़ सकता है। जरूरत है कि अभी से मरीजों के इलाज के प्रति सचेत हो जाएं। आने वाले मरीजों का विश्लेषण करना है और प्रयास करना है कि उसे स्वस्थ किया जाए। उन्होंने बताया कि इस दौरान केंद्रीय टीम ने यहां आने वाले मरीजों के रखने और इलाज करने की प्रक्रिया के विषय में भी जानकारी ली।

गौरतलब है कि स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के नेतृत्व में तीन सदस्यीय केंद्रीय टीम रविवार को पटना पहुंची थी। रविवार को कोविड की स्थिति के विभिन्न पहलुओं पर राज्य सरकार के मुख्य सचिव और वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ चर्चा केबाद टीम ने राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए थे। इस टीम के अन्य सदस्यों में नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के निदेशक डॉ़ एस के सिंह और दिल्ली एम्स के एसोसिएट प्रोफेसर नीरज निश्चल हैं। केंद्रीय टीम ने कोरोना महामारी को रोकने के लिए उठाए गए उपायों की देखरेख के लिए पटना के कई क्षेत्रों का दौरा भी किया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia