हैदराबाद में बजरंग दल का फरमान, गरबा स्थलों पर हो आधार कार्ड की जांच, ताकि ‘गैर-हिंदू समुदायों’ की हो सके पहचान

बजरंग दल ने ‘गरबा और डांडिया’ आयोजकों को एक पत्र लिखा है। पत्र में दावा किया गया है कि पिछले कुछ सालों के दौरान गैर-हिंदू युवा इस तरह के समारोहों में प्रवेश करते हैं और महिला प्रतिभागियों से दुर्व्यवहार के साथ मारपीट करते हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

हैदराबाद में नवरात्रि के दौरान ‘गरबा और डांडिया’ का आयोजन करने वाले आयोजकों को बजरंग दल ने फरमान सुना दिया है। बजरंग दल ने ‘गरबा और डांडिया’ आयोजन करने वालों से कहा कि गरबा स्थलों पर आधार कार्ड को अनिवार्य किया जाए। उन्होंने कहा है कि गरबा स्थल पर आधार कार्ड की जांच की जाए, ताकि ‘गैर-हिंदू समुदायों’ की पहचान की जा सके।

बजरंग दल ने ‘गरबा और डांडिया’ आयोजकों को एक पत्र लिखा है। पत्र में दावा किया गया है कि पिछले कुछ सालों के दौरान गैर-हिंदू युवा इस तरह के समारोहों में प्रवेश करते हैं और महिला प्रतिभागियों से दुर्व्यवहार के साथ मारपीट करते हैं। संगठन ने पत्र में यह भी कहा कि इवेंट मैनेजर गैर-हिंदू बाउंसरों को अपने यहां काम पर रख रहे हैं, जो इन बदमाशों को समारोहों में प्रवेश करने की इजाजत देते हैं। संगठन कहना है कि इस तरह के समारोहों में निगरानी और नियंत्रण का अभाव है।


वहीं, बजरंग दल के मीडिया संयोजक एस कैलाश ने कहा कैलाश ने कहा, “बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की टीमें समारोह स्थल पर मौजूद रहेंगी और अगर ऐसा कोई मामला सामने आता है, तो बजरंग दल द्वारा उपद्रवियों को उन जगहों पर प्रवेश करने से रोकने के लिए तत्काल कार्रवाई की जाएगी।”

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 29 Sep 2019, 1:03 PM