चरमराने के करीब अफगानिस्तान की बैंकिंग प्रणाली, तालिबान शासन से ग्राहकों में घबराहट कायम

अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था पहले से अस्थिर स्थिति में थी। लेकिन अगस्त में तालिबान के कब्जे के बाद पश्चिमी देशों ने अंतरराष्ट्रीय फंड को फ्रीज कर दिया है, जिससे अफगानिस्तान की संपत्ति विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के पास पहुंच सकती है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान की बैंकिंग प्रणाली चरमराने के करीब है। बीबीसी ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि इस्लामिक बैंक ऑफ अफगानिस्तान के मुख्य कार्यकारी सैयद मूसा कलीम अल-फलाही ने कहा है कि देश का वित्तीय उद्योग 'अस्तित्व के संकट' की चपेट में है और ग्राहकों में घबराहट कायम है।

बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि फिलहाल सैयद मूसा कलीम काबुल में अराजकता के कारण दुबई में हैं। उन्होंने दुबई से ही बोलते हुए कहा, "इस समय बड़ी निकासी हो रही है। बैंक से केवल निकासी हो रही है, अधिकांश बैंक काम नहीं कर रहे हैं और पूरी सेवाएं नहीं दे रहे हैं।"


अगस्त में तालिबान के नियंत्रण में आने से पहले ही अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था पहले से ही अस्थिर स्थिति में थी। लेकिन तालिबान के अधिग्रहण के बाद से पश्चिमी देशों ने अंतरराष्ट्रीय फंड को फ्रीज कर दिया है, जिससे अफगानिस्तान की संपत्ति विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के पास पहुंच सकती है।

कुल मिलाकर अंतर्राष्ट्रीय धन और विदेशी सहायता प्राप्त करना अफगानिस्तान के अस्तित्व की कुंजी है। लेकिन अमेरिका जैसे देशों ने कहा है कि वे तालिबान के साथ काम करने पर विचार करने को तैयार हैं, मगर यह कुछ पूर्व शर्तों पर निर्भर करेगा, जिसमें महिलाओं और अल्पसंख्यकों को साथ लेकर एक समावेशी सरकार का गठन और मानवाधिकार के प्रति प्रतिबद्धता शामिल है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia