जिस जहरीली शराब ने ले ली यूपी में 17 लोगों की जान, वह अब भी सरकारी ठेकों पर बेची जा रही -एडीजी का खुलासा

विंडीज और पावर हाउस ब्रांड की जिन शराब की बोतलों से लोगों की मौत हुई उनकी सील टूटी हुई थी और अन्य जिलों में भी सरकारी ठेकों से उसी ब्रांड की शराब बेची जा रही है। जिस बैच की शराब पीने से लोगों की मौत हुई है, उसकी जांच करने के आदेश दिए गए हैं।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से अब तक एक ही परिवार के 4 लोगों समेत 17 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, 32 लोग अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं, जहां सभी की हालत गंभीर बनी हुई है। सभी घायलों को केजीएमयू, लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा है। इन सभी लोगों ने सोमवार को रामनगर थाना क्षेत्र के रानीगंज से एक सरकारी ठेके से देसी शराब खरीद कर पी थी।

पुलिस के मुताबिक शराब में जहरीला पदार्थ मिला हुआ था, जिसे पीने के बाद इन सभी को दिखाई बंद हो गया था। कुछ लोगों की घर में ही मौत हो गयी थी, जबकि कुछ लोगों ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। जानकारी के मुताबिक इस मामले में अब तक आबकारी अधिकारी और आबकारी निरीक्षक समेत 15 लोगों को बर्खास्त कर दिया गया है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया 

लखनऊ जोन के एडीजी राजीव कृष्णा के मुताबिक विंडीज और पावर हाउस ब्रांड की जिन शराब की बोतलों से लोगों की मौत हुई उनकी सील टूटी हुई थी और अन्य जिलों में भी सरकारी ठेकों से उसी ब्रांड की शराब बेची जा रही है। जिस बैच की शराब पीने से लोगों की मौत हुई है, उसकी जांच करने के आदेश दिए गए हैं।

इस मामले में सख्ती दिखाते हुए सरकार ने बाराबंकी के जिला आबकारी अधिकारी एसएन दुबे, आबकारी निरीक्षक रामतीरथ मौर्या, हेड कांस्टेबल राममोहन, संतोष यादव, सलीम व कांस्टेबल अब्दुल कलाम, दीपक शुक्ला, विनय सिंह, रामशबद चौधरी व सीता देवी को बर्खास्त कर दिया है। डीजीपी के निर्देश पर रामनगर के एसपी पवन गौतम, प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार, चौकी इंचार्ज महेंद्र सिंह व सिपाहियों परमात्मा व जंग बहादुर गुप्ता को भी निलंबित किया गया है।

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने आबकारी आयुक्त पी. गुरुप्रसाद की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच कमेटी गठित की है। कमेटी को 48 घंटे के भीतर शासन को रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। कमेटी के सदस्यों ने मौके पर पहुंचकर जांच की है। मुख्यमंत्री ने सभी मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये का मुआवजा देने का एलान किया है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया 

ये हैं मृतक

मरने वालों में रानीगंज के छोटेलाल (60) और उसके तीन बेटे रमेश (35), मुकेश(28) और सोनू (25)शामिल हैं। इसके अलावा रानीगंज मजरे रहटा के मुन्ना उर्फ शिवकुमार यादव(50), लोहरनपुरवा के राम सहारे और रानीगंज के रविशंकर (30), महार के सूर्य बक्श (42), उमरी के राजेंद्र वर्र्मा (42), भुंड अमराई के शिवकुमार(50), अकोहरा के राजेश कुमार (35), तेलवारी मजरे सेमराय के निवासी महेश सिंह (38), कटाहरी के विनय सिंह उर्फ राजू(33), कजियापुर के रामस्वरूप (40), ततेहरा के महेन्द्र सिंह(40) की मौत हो गई।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया 

बता दें कि जिस दुकान से शराब पीकर लोगों की मौत हुई, उसके ठेकेदार बहराइच निवासी दानवीर सिंह और उसके सेल्समैन सुनील उर्फ पप्पू जायसवाल व मनीष सिंह के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। पप्पू जायसवाल को पुलिस ने मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। अन्य दो सेल्समैन पीतांबर और शिवम को भी पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

लोकप्रिय