यूपी चुनाव से पहले संजय निषाद ने बढ़ाया बीजेपी का टेंशन, उपमुख्यमंत्री का चेहरा बनाने की कर दी मांग

निषाद पार्टी के अध्यक्ष डॉ. संजय निषाद का कहना है कि बीजेपी ने हमसे कैबिनेट पद और राज्यसभा सीट का वादा किया था, लेकिन वो पूरा नहीं हुआ। अगर वे हमें चोट पहुंचाएंगे तो वे भी खुश नहीं रहेंगे। हम अपने आरक्षण के मुद्दे के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर छोटे राजनीतिक दलों ने भी दबाव की राजनीति की शुरूआत कर दी है। बीजेपी की सहयोगी निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद ने आगामी चुनाव को देखते हुए बीजेपी के सामने बड़ी मांग रख दी है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने हमें एक कैबिनेट पोस्ट और एक राज्यसभा सीट देने का वादा किया था। हमारी मांग है कि आगामी चुनाव में बीजेपी की तरफ से मुझे उप मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया जाए।

निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. संजय निषाद ने आगामी चुनाव में खुद को उप मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने की मांग भारतीय जनता पार्टी से की है। उनका कहना है, ''अगर बीजेपी उनके चेहरे पर चुनाव लड़ती है तो पूरे यूपी में निश्चित विजय मिलेगी। बीजेपी ने हमसे कैबिनेट पद और राज्यसभा सीट का वादा किया था। अगर वे हमें चोट पहुंचाएंगे तो वे भी खुश नहीं रहेंगे। हम अपने आरक्षण के मुद्दे के लिए संघर्ष कर रहे हैं।''


डॉ. संजय निषाद ने कहा, ''उत्तर प्रदेश में अब तक सभी जातियों के मुख्यमंत्री बनाए जा चुके हैं, लेकिन अब 18 फीसद वोट की ताकत रखने वाले मछुआरा समाज के चेहरे पर बीजेपी को
चुनाव लड़ना चाहिए। यदि मुख्यमंत्री नहीं बना सकते तो कम से कम डॉ. संजय निषाद को आगामी चुनाव में उप मुख्यमंत्री का चेहरा बना कर चुनाव लड़े, अगर बीजेपी ऐसा करती है तो इससे पूरे प्रदेश में निश्चित ही विजय मिलेगी।''

बता दें कि इसके पहले संजय निषाद ने दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी और अपनी मांगें रखी थी। अगले साल की शुरुआत में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव के लिए अब बहुत कम समय बचा है। ऐसे में बीजेपी ने अभी से अपने गठबंधन के कील-कांटें दुरुस्त करना शुरू कर दिया है। इसी के तहत अमित शाह राज्य के कई छोटे दलों के नेताओं से लगातार मुलाकात कर रहे हैं। इसी को देखते हुए निषाद पार्टी जैसे छोटे दलों ने भी अपनी मांगें रखकर दबाव बनाना शुरू कर दिया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia