कश्मीर पर भारत विरोधी रुख रखने वाले ब्रिटिश सांसद से मिले भगवंत मान, पूर्व सेना प्रमुख ने उठाए सवाल, मांगा जवाब

ब्रिटिश लेबर पार्टी के सांसद तनमनजीत सिंह ढेसी ने 2019 में भारत आने पर उन्होंने अपने पहले के रुख को दोहराते हुएअनुच्छेद 370 को निरस्त करने और तत्कालीन राज्य जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के लिए भारत सरकार की आलोचना की थी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पूर्व सेना प्रमुख जनरल जे.जे. सिंह ने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और आप के राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा से ब्रिटिश लेबर पार्टी के सांसद तनमनजीत सिंह ढेसी के साथ बैठक करने पर स्पष्टीकरण मांगा है, जिनका कश्मीर मुद्दे पर भारत विरोधी रुख है।

पूर्व सेना प्रमुख जनरल जे.जे. जनरल सिंह ने कहा, "यह जानने के बावजूद कि कश्मीर पर ढेसी का भारत विरोधी रुख है, सीएम मान और राघव चड्ढा ने हाल ही में पंजाब में उनसे मुलाकात क्यों की और यह बताना चाहिए कि मान और चड्डा ने ब्रिटिश सांसद को क्या आश्वासन दिया है।"

उन्होंने आगे कहा कि पंजाब में अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) को कुछ सुविधाएं देने पर चर्चा हुई। उन्होंने यह भी कहा कि भारत सरकार ने पंजाब के एनआरआई को कई सुविधाएं दी हैं और उनमें से कई को 'ब्लैक लिस्ट' से हटा दिया गया है और उन्हें राज्य का दौरा करने की अनुमति दी गई है।

साल 2019 में, ढेसी ने कहा था, "मैं अनुच्छेद 370 को निरस्त करने और कश्मीर से राज्य का दर्जा हटाने के भारत सरकार के फैसले का समर्थन नहीं करता।" अगस्त 2019 में भारत आने पर उन्होंने अपना रुख दोहराया था और अनुच्छेद 370 को निरस्त करने और तत्कालीन राज्य जम्मू और कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के लिए भारत सरकार की आलोचना की थी।

जनरल सिंह की यह टिप्पणी ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की 21-22 अप्रैल तक भारत यात्रा से पहले आई है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के रूप में यह उनकी पहली भारत यात्रा होगी और वह व्यापार, रक्षा और यूक्रेन संकट पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ विभिन्न द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia