अयोध्या फैसले को लेकर मीडिया रणनीति बनाने में जुटा संघ, फैसला आने के बाद देश को संबोधित कर सकते हैं मोहन भागवत

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद आरएसएस का शीर्ष नेतृत्व देश को संबोधित करेगा। यह संबोधन या तो संघ प्रमुख मोहन भागवत करेंगे या फिर सह सरकार्यवाह भैय्या जी जोशी।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

अयोध्या भूमि विवाद में सुप्रीम कोर्ट का फैसला अगले सप्ताह आने की संभावना है। इसके मद्देनजर सभी राज्यों में प्रशासन को अलर्ट पर कर दिया गया है और शांति और सौहार्द्र बनाए रखने की अपीलें की जा रही हैं। इस बीच आरएसएस सूत्रों ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद संघ का शीर्ष नेतृत्व देश को संबोधित करेगा। संघ सूत्रों के मुताबिक संघ प्रमुख मोहन भागवत या सरकार्यवाह भैय्याजी जोशी देश के लोगों को संबोधित करेंगे।

सूत्रों के मुताबिक अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर संघ अपनी मीडिया रणनीति बनाने में जुटा है। सूत्रों का कहना है कि संघ यह रणनीति भी बना रहा है कि फैसला आने के बाद उसका शीर्ष नेतृत्व कहां-कहां मौजूद रहे। सूत्रों ने बताया कि, “फैसला आने के बाद उसे देखकर तय किया जाएगा कि देश को मोहन भागवत संबोधित करेंगे या भैय्याजी जोशी।” बताया जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करने के अलावा संघ नेतृत्व समाज के सभी तबकों से शांति और धैर्य बनाए रखने की अपील कर सकता है।

सूत्रों का कहना है कि संघ ने अपने स्वंयसेवकों को पहले ही यह निर्देश जारी कर दिए हैं कि अगर फैसला उनके पक्ष में आता है तो वे इसका जश्न सिर्फ अपने घर में या नजदीक मंदिर में मनाए। साथ ही उन्हें कहा गया है कि अगर फैसला उनके पक्ष में नहीं आता है तो धैर्य बनाए रखें।

सूत्रों का कहना है कि हाल ही में संघ और बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की बैठक में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद की स्थिति को लेकर गहरी चर्चा हुई थी। इस बैठक में गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के कार्यवाहक अध्यक्ष जे पी नड्डा भी मौजूद थे।

गौरतलब है कि अयोध्या मुद्दा पिछले कई दशकों से देश की राजनीति पर हावी रहा है। बीजेपी बीते कई चुनावों में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का वादा करती रही है। इस मुद्दे पर बीजेपी को संघ का खुला समर्थन हासिल है।

इसके अलावा गुरुवार को बीजेपी और संघ के बीच दिल्ली के महाराष्ट्र सदन में हुई बैठक में कोआरडिनेशन बैठक में आरएसएस नेता कृष्णगोपाल, बीजेपी के संगठन मंत्री बी एल संतोष, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, संतोष गंगवार और भूपेंद्र यादव भी मौजूद थे।

लोकप्रिय