भारत बायोटेक ने अनिल विज के संक्रमित होने पर दी सफाई, कहा- कोवैक्सीन दो चरण में देने पर दिखाता है असर

भारत बायोटेक ने कहा कि कोवैक्सिन को दो डोज के लिए डिजाइन किया गया है। कंपनी ने बताया कि कोवैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल दो खुराक पर आधारित है, जो 28 दिनों में पूरा किया जाना है। इसके बाद वैक्सीन कितना प्रभावी है, ये दोनों खुराक के 14 दिन के बाद ही पता लगेगा।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आसिफ एस खान

कोरोना वायरस के खिलाफ कोवैक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल में पहली डोज लेने के बावजूद हरियाणा के गृह और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। विज को भारत बायोटेक द्वारा विकसित की गई कोवैक्सीन की डोज दी गई थी। विज के संक्रमित होने पर मचे बवाल के बाद भारत बायोटेक ने बयान जारी कर सफाई दी है।

भारत बायोटेक ने कहा कि कोवैक्सिन को दो डोज के लिए ही डिजाइन किया गया है और इसके 14 दिन के बाद ही ये प्रभावकारी होगी। कंपनी ने बताया कि कोवैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल दो खुराक पर आधारित है, जो 28 दिनों में दिया जाना है। वैक्सीन कितना प्रभावी है, ये दोनों खुराक के 14 दिन के बाद ही पता लगेगा। कंपनी ने कहा कि तीसरे चरण के ट्रायल डबल-ब्लाइंड और रैंडमाइज्ड होते हैं, जिसमें ट्रायल में भाग लेने वाले 50% लोग टीका प्राप्त करते हैं और 50% प्लेसीबो प्राप्त करते हैं।

बता दें कि हरियाणा के स्वास्थ्य और गृह मंत्री अनिल विज ने आज खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी कि वह कोरोना संक्रमित हो गए हैं। बताया गया कि कोरोना से हालात बिगड़ने के बाद उन्हें अंबाला कैंट के सिविल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। अनिल विज का संक्रमित होना इसलिए हैरान करने वाला है, क्योंकि नवंबर के आखिर में उन्हें भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन- कोवैक्सिन का ट्रायल शॉट दिया गया था। विज ने इस वैक्सीन के लिए खुद ही वॉलंटियर बनने का फैसला किया था।

गौरतलब है कि भारत में विकसित कोवैक्सीन के लिए 25 केंद्रों पर 26 हजार वॉलन्टियर्स पर ट्रायल होना है। वैक्सीन का ट्रायल इंडियन कैंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर के साथ साझेदारी में किया जा रहा है। जिन वॉलन्टियर्स को वैक्सीन की डोज दी गई है उन सभी को अगले साल तक निगरानी में रखा जाएगा। पहले दो फेज में जिन लोगों को ये वैक्सीन दी गई, उनमें कोई साइड इफेक्ट नहीं नजर आया। किसी भी वॉलंटियर के संक्रमित होने की रिपोर्ट भी नहीं है। ऐसे में इस वैक्सीन से उम्मीद बढ़ गई थी। हालांकि, विज के संक्रमित होने के बाद अब शंका की स्थिति पैदा हो गई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia