मुंबई के मुस्लिम धर्मगुरुओं का बड़ा फैसला, अब मस्जिदों में लाउडस्पीकर पर नहीं दी जाएगी सुबह की अजान

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना पार्टी प्रमुख राज ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार को चेतावनी दी थी कि अगर 4 मई से मस्जिदों में लाउस्पीकर से होने वाली अजान की बाहर हुई तो वहां हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर विवाद के बीच मुंबई के मुस्लिम धर्मगुरुओं ने बड़ा फैसला लिया है। मुस्लिम धर्मगुरुओं के फैसले के अनुसार, अब सुबह की अजान बिना लाउडस्पीकर के ही होगी। दक्षिण मुम्बई की करीब 26 मस्जिदों के धर्मगुरुओं की बुधवार देर रात को अहम बैठक हुई। बैठक में बैठक में कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का पालन किया जाएगा और सुबह की अजान बिना लाउडस्पीकर के दी जाएगी। यह मीटिंग इलाके की 'सुन्नी बड़ी मस्जिद' में हुई। बैठक में भायखला के मदनपुरा, नागपाड़ा और अग्रीपाडा इलाके के मुस्लिम धर्मगुरुओं ने हिस्सा लियया। फैसला का पालन करते हुए मुंबई की मशहूर मिनारा मस्जिद में आज सुबह की अजान बिना लाउडस्पीकर के ही दी गई।

इससे पहले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना पार्टी प्रमुख राज ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार को चेतावनी दी थी कि अगर 4 मई से मस्जिदों में लाउस्पीकर से होने वाली अजान की बाहर हुई तो वहां हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा। इससे पहले राज ठाकरे ने औरंगाबाद में भाषण के दौरान भी लाउडस्पीकर विवाद को लेकर चेतावनी दी थी। इस मामले में उनके खिलाफ औरंगाबाद में एक एफआईआर भी दर्ज की गई थी। उनके ऊपर भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगा था।


वहीं, इस विवाद पर राज्य के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने कहा था कि सरकार जल्द अजान से जुड़ी गाइडलाइंस जारी करेगी। पुलिस महानिदेशक और मुंबई पुलिस आयुक्त को लाउडस्पीकर के संबंध में एक संयुक्त नीति बनाने के भी निर्देश दिए गए थे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia