पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में ‘शौचालय’ के नाम पर बड़ा घोटाला, कागज में ही पूरे कर दिए काम, मचा हड़कंप

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी में उनके ही ड्रीम प्रोजेक्ट ‘स्वच्छ इंडिया’ के नाम पर खेल हो रहा है। जांच में पता चला है कि कई लोगों द्वारा शौचालय का निर्माण ना कराकर उसके पैसों को निजी रुप से इस्तेमाल कर लिया गया। इस खुलासे के बाद हड़कंप मचा हुआ है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में स्वच्छ भारत अभियान के नाम घोटला सामने आया है। खबरों के मुताबिक, कई लोगों द्वारा शौचालय का निर्माण ना कराकर उसके पैसों को निजी रुप से इस्तेमाल कर लिया गया। बताया जा रहा है कि वाराणसी जिले में शहरी और ग्रामीण इलाकों में 2 लाख 76 हजार शौचालय बनाने का लक्ष्य रखा गया था, इसके लिए सरकार ने पूरी मदद भी की। लेकिन जब शौचालय की संख्या को लेकर जांच शुरु हुई तो कई खुलासे सामने आए। हालात यह है कि कागज पर आकंड़े कुछ और जमीन पर कुछ ओर।

खबरों के मुताबिक, अब तक की जांच में शहरी क्षेत्र के 6 हजार में से 900 ऐसे लोग चिह्नित हुए हैं, जिन्‍होंने शौचालय न बनवाकर सरकारी धन का गबन किया है। जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने इन सभी के खिलाफ एफआईआर कराने का आदेश दिया है। गबन करने वालों की थानावार सूची तैयार की जा रही है। यही वजह है कि इस खुलासे के बाद प्रशासन ने अब पूरे जिले में शौचालयों के निर्माण की जांच के लिए 350 नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं। इसके साथ ही दोषी लोगों को चिन्हित कर उनके खिलाफ भू-राजस्व की तरह वसूली और एफआईआर दर्ज कराने की कार्रवाई शुरू की गई है।


वहीं वाराणसी के ग्रामीण इलाके में मेंहदीपुर गांव में भी शौचालयों को निर्माण में धांधली का मामला सामने आया है। सीडीओ गौरांग राठी ने बताया कि मेंहदीपुर में आधे से ज्‍यादा शौचालय कागज पर ही बने मिले। ऐसे में ग्राम प्रधान बीन शर्मा और तीन सचिव के खिलाफ गबन किए गए सरकारी धन की वसूली के लिए नोटिस जारी करके वसूली की तैयारी की जा रही है।

गौरतलब है कि पीएम मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में अस्‍सी घाट पर फावड़ा चलाकर, झाड़ू लगाकर और मुस्‍हर बस्‍ती में ‘इज्‍जत घर’ यानी शौचालयों की नींव रखकर स्‍वच्‍छता अभियान की शुरुआत की थी। यहीं के लोगों ने इस अभियान में पलीता लगा दिया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 09 Sep 2019, 1:21 PM