अमित शाह के दौरे के फौरन बाद महाराष्ट्र में बीजेपी को झटका, पार्टी के 7 पार्षदों ने थामा शिवसेना का दामन

बीजेपी छोड़ने वाले सातों पार्षद वैभववाड़ी नगर पंचायत से हैं, जो वर्तमान में बीजेपी के मजबूत नेता नारायण राणे के समर्थकों द्वारा शासित है। पार्षदों ने आरोप लगाया कि वे बीजेपी इसलिए छोड़ रहे हैं, क्योंकि वे राणे परिवार के ‘उत्पीड़न’ को और नहीं सह सकते हैं।

फाइल फोटोः पीटीआई
फाइल फोटोः पीटीआई
user

नवजीवन डेस्क

केंद्रीय गृह मंत्री और पूर्व बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के महाराष्ट्र दौरे से लौटने के 48 घंटे बाद ही बीजेपी को एक बड़ा झटका लगा है। महाराष्ट्र में बीजेपी के कम से कम 7 पार्षदों ने पार्टी छोड़कर शिवसेना का दामन थाम लिया। इन 7 पार्षदों के शीघ्र ही मुंबई में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की उपस्थिति में शिवसेना में शामिल होने की उम्मीद है। राज्य की राजनीति में हुई इस हलचल को बीजेपी के लिए बड़ा लगे झटका माना जा रहा है।

बीजेपी छोड़ने वाले सातों पार्षद वैभववाड़ी नगर पंचायत से हैं, जो वर्तमान में बीजेपी के राज्यसभा सांसद और पार्टी के मजबूत नेता नारायण राणे के समर्थकों द्वारा शासित है। पार्टी छोड़ने वाले कुछ पार्षदों ने आरोप लगाया कि वे बीजेपी को इसलिए छोड़ रहे हैं, क्योंकि वे राणे परिवार के सदस्यों द्वारा किए जा रहे 'उत्पीड़न' को और नहीं सहन कर सकते हैं।

हालांकि, इस झटके के बाद कांकावली से बीजेपी विधायक नितेश राणे ने सातों दलबदलू नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि सिंधुदुर्ग में शिवसेना ऐसी स्थिति में है कि उसके पास वैभववाड़ी नगर पंचायत चुनावों के लिए नामांकन भरने के लिए भी कोई उम्मीदवार नहीं है। राणे ने सोशल मीडिया पर पोस्ट वीडियो में उद्धव ठाकरे को व्यंग्यात्मक लहजे में कहा, "प्रिय उद्धवजी, हैप्पी वेलेंटाइन डे! शिवसेना हमारा पुराना प्यार है.. कहा जाता है कि आपको अपने बिछड़े प्यार को कभी नहीं भूलना चाहिए.. हमारे आदर्श हमेशा दिवंगत हिंदू हृदय सम्राट बाला साहेब ठाकरे थे.. हम कल भी उनका सम्मान करते थे, आज भी करते हैं और भविष्य में भी करेंगे।"

नीतेश राणे ने आगे कहा, “यह सुनिश्चित करने के लिए कि बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना अलग-थलग न हो जाए, बीजेपी 'इन 7 पार्षदों' को भेज रही है। इसके अलावा, सीएम ठाकरे ने हमारे मेडिकल कॉलेज की फाइलों को तुरंत मंजूरी दे दी थी (जिसका उद्घाटन 7 फरवरी को शाह ने किया) हम उन्हें अभी कुछ भी देने की स्थिति में नहीं हैं, लेकिन हम इन 7 पार्षदों को गिफ्ट कर रहे हैं। हम उनसे इन्हें स्वीकार करने का विनम्र निवेदन करते हैं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय