लखीमपुर कांड में बड़ा अपडेट! किसानों को रौंदने वाली जीप के ड्राइवर का फोन बरामद, खुलेंगे राज?

पुलिस ने जिस लड़के से ड्राइवर हरिओम का मोबाइल फोन बरामद किया है, उसके पिता को पूछताछ के बाद रिहा कर दिया। फिलहाल, पुलिस ने हरिओम के फोन को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। बरामद फोन से पुलिस को लखीमपुर हिंसा से जुड़े कई अहम सुराग हाथ लगने की उम्मीद है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में एक बड़ा अपडेट मिला है। किसानों को रौंदते हुए जो जीप चली गई थी उसके ड्राइवर का फोन लखनऊ पुलिस ने बरामद कर लिया है। फोन को जांच के लिए फॉरेंसिक लैब भेज दिया गया है। हरिओम मिश्रा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी का ड्राइवर था। किसानों पर जीप चढ़ाने के बाद भड़की हिंसा में हरिओम मिश्रा की मौत हो गई थी।

खबरों के मुताबिक, 3 अक्टूबर को लखीमपु खीरी में हिंसा के बाद ड्राइवर हरिओम मिश्रा का मोबाइल लावारिस हालत में गांव के एक लड़के को मिला था। घटना के बाद मोबाइल फोन कई दिनों तक लड़के के पास ही रहा, लेकिन जब उसने फोन को दोबारा चालू किया तो पुलिस ने उसे ट्रेस किया और उसके बरामद कर लिया।


पुलिस ने जिस लड़के से ड्राइवर हरिओम का मोबाइल फोन बरामद किया है, उसके पिता को पूछताछ के बाद रिहा कर दिया। फिलहाल, पुलिस ने हरिओम के फोन को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। बरामद फोन से पुलिस को लखीमपुर हिंसा से जुड़े कई अहम सुराग हाथ लगने की उम्मीद है।

ये है पूरा मामला:

यह पूरा मामला 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया का है। जिस थार जीप के ड्राइवर का फोन बरामद हुआ है, वह जीप एक वीडियो में प्रदर्शन कर रहे किसानों को कुचलते हुए दिखाई दी थी। इसके बाद भड़की हिंसा में चार किसानों समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। किसानों को कुचलने के आरोप केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा पर लगे। इसके आशीष मिश्रा को गिरफ्तार किया गया और अभी वह जेल में है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 14 Nov 2021, 10:55 AM