बिहारः महापर्व पर दिखी सौहार्द्र की मिसाल, मुस्लिम युवक ने छठव्रतियों के लिए आंगन में बनवाया जलकुंड

कोरोना संकट के कारण इस बार छठ महापर्व में आई कई तरह की अड़चनों को देखते हुए भागलपुर के रामसर चौक पर एक मुस्लिम युवक ने समाज के आग्रह पर अपने घर के आंगन में ही छठव्रतियों के अर्घ्य दान के लिए छोटा सा तालाब (जलकुंड) खुदवा दिया।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

मनोज पाठक, IANS

लोक आस्था और भगवान भास्कर की अराधना वाला महापर्व छठ शनिवार की सुबह उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही संपन्न हो गया। लेकिन इस महापर्व के दौरान आपसी सौहार्द की मिसाल भी देखने को मिली। बिहार के भागलपुर में एक मुस्लिम परिवार ने अपने घर के आंगन में छठव्रतियों के लिए छोटा सा जलकुंड का निर्माण कराया, जहां 50 से अधिक व्रतियों ने भगवान भास्कर को अघ्र्य अर्पित किया।

कोरोना के दौर में इस पर्व में व्रतियों को कई परेशानियों का सामाना करना पड़ा। कोरोना को लेकर सरकार ने भी लोगों को छठ घाटों पर जाने के बजाय घर में ही छठ पर्व मनाए जाने की अपील की गई थी। इस अपील के बाद कई इलाकों में जलाशयों की कमी और जलकुंडों के अभाव के कारण कई व्रतियों को अर्घ्य देने में परेशानी का सामाना करना पड़ा।

कोरोना काल में कई तरह की अड़चनों को देखते हुए भागलपुर के रामसर चौक पर एक मुस्लिम युवक ने समाज के आग्रह पर अपने आंगन में ही छठव्रती के अर्घ्य दान के लिए छोटा सा तालाब (जलकुंड) खुदवा दिया। मुजफ्फर अहमद ने अपने मोहल्ले के छत व्रतियों के लिए अपने घर के घर के आंगन में जलकुंड का निर्माण करवाकर समाज में आपसी सौहार्द की एक मिसाल पेश की है।

मुजफ्फर अहमद ने बताया, "छठ समाज का पर्व है और हम समाज से बाहर के नहीं हैं, इसलिए मैंने जलकुंड का निर्माण करवाया। मेरी सोच मात्र कोरोना काल में भी व्रतियों को किसी परेशानी नहीं होने देने की थी। मुझे खुशी है कि मेरी मेहनत व्रतियों के काम आई।"

मुजफ्फर अहमद के घर छठ व्रत करने पहुंची महिलाओं ने कहा कि कोविड के गाइडलाइंस के अनुसार इस बार घाटों पर भीड़ लगाने पर पाबंदी थी। ऐसे में मुस्लिम समाज के भाई ने मदद की।छठ व्रती साधना देवी कहती हैं कि “रामसर चैक मुहल्ला में जलकुंड नहीं है और घरों की संख्या अधिक है। अधिकांश घर ऐसे हैं, जहां छत नहीं है। हम लोगों के पास कोरोना काल के कारण गंगा घाट जाने में भी परेशानी थी। उन्होंने कहा कि समाज की परेशानियों को अहमद साहब ने जाना और इस समस्या का समाधान कर दिया।

ऐसे भी छठ पर्व में जातिगत और धर्म की दूरियां मिटती दिखती हैं। किसी भी समाज, धर्म के लोगों का छठ पर्व के प्रति समान आस्था होती है। बिहार और झारखंड में कई मुस्लिम परिवार वर्षों से छठ पर्व करते आ रहे हैं। यह सामाजिक सौहार्द और एकता का बड़ा संदेश देता है। बता दें कि बुधवार को 'नहाय खाय'से प्रारंभ हुआ यह महापर्व शनिवार को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न हो गया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;