2020 बिहार विधानसभा चुनाव में साथ आएंगे लालू और नीतीश, प्रशांत किशोर बनाएंगे रणनीति?

2020 में बिहार में विधानसभा चुनाव होने हैं, लेकिन अभी से चर्चा है कि नीतीश कुमार बीजेपी का साथ छोड़ एक बार फिर से महागठबंधन का दामन थाम सकते हैं। इतना ही नहीं कहा जा रहा है कि इस चुनाव की रणनीति तैयार करने की जिम्मेदारी फिर से प्रशांत किशोर को दी जा सकती है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

2020 में बिहार में विधानसभा चुनाव होने हैं, लेकिन अभी से चर्चा है कि नीतीश कुमार बीजेपी का साथ छोड़ एक बार फिर से महागठबंधन का दामन थाम सकते हैं। इतना ही नहीं कहा जा रहा है कि इस चुनाव की रणनीति तैयार करने की जिम्मेदारी फिर से प्रशांत किशोर को दी जा सकती है। दरअसल लंबे समय के बाद झारखंड में नीतीश कुमार के साथ चुनावी मंच पर प्रशांत किशोर यानि PK नजर आए। बिहार जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह की मानें तो वह आगामी विधानसभा चुनाव में वह जेडीयू की स्ट्रेटेजी तैयार करने जा रहे हैं।

जेडीयू नेता वशिष्ठ नारायण सिंह ने हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज 18’ से बात करते हुए कहा, 'प्रशांत किशोर जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। जब पूरी पार्टी वर्ष 2020 में चुनाव में लगेगी तो स्वाभाविक है कि वह भी लगेंगे ही।’


वहीं पीके की एंट्री की खबर पर बीजेपी में भी हलचल है। हालांकि, बीजेपी ये जता रही है कि चुनाव में पीके कोई फैक्टर नहीं होंगे। पीके को लेकर बीजेपी भले ही इत्मीनान में होने की बात दिखाने की कोशिश कर रही हो, लेकिन हकीकत यह है कि उनकी रणनीतियों का नतीजा ही था कि साल 2015 में धुर विरोधी लालू यादव और नीतीश कुमार एक साथ आए थे। हालांकि, अभी तक न तो जेडीयू और न ही आरजेडी की तरफ से गठबंधन को लेकर कोई साकारत्मक संकेत मिले हैं।

वहीं राजनीति के जानकारों का मानना है कि जेडीयू प्रशांत किशोर को बिहार की राजनीति में फिर से सक्रिय कर बीजेपी पर दबाव बनाने की कोशिश में है। हालांकि, बीजेपी का कहना है कि उनके आने से कोई असर नहीं पड़ेगा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 18 Sep 2019, 12:54 PM
;