बिहारः पटना में रावण दहन में अकेले पड़ गए सीएम नीतीश, कार्यक्रम से नदारद रहे बीजेपी नेता  

राजधानी पटना के रावण दहन कार्यक्रम के निमंत्रण कार्ड पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता और डिप्टी सीएम सुशील मोदी का भी नाम था, लेकिन वे कार्यक्रम में नहीं नजर आए। उनके अलावा बीजेपी का कोई अन्य मंत्री भी कार्यक्रम में मौजूद नहीं था। <b></b>

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

देश के साथ-साथ बिहार की राजधानी पटना में भी बुराई पर अच्छाई का पर्व विजयदशमी पूरे धूमधाम से संपन्न हो गया। लेकिन बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए ऐतिहासिक गांधी मैदान में रखे गए रावण वध कार्यक्रम में राज्य के मुखिया सीएम नीतीश कुमार बिल्कुल अकेले नजर आए। रावण वध के दौरान उनकी गठबंध सरकार में सहयोगी बीजेपी का कोई भी नेता उनके साथ नजर नहीं आया। यहां तक कि बीजेपी में उनके सबसे करीबी माने जाने वाले और राज्य के डिप्टी सीएम सुशील मोदी भी कार्यक्रम में नहीं आए। एक तरह से बीजेपी नेताओं ने इस कार्यक्रम से पूरी तरह किनारा ही कर लिया।

दरअसल हर साल की तरह इस बार भी विजयादशमी के मौके पर मंगलवार को पटना के गांधी मैदान में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में 75 फीट लंबे रावण का पुतला दहन कार्यक्रम रखा गया था। तय समय पर सीएम नीतीश कुमार कार्यक्रम में जरूर पहुंचे और रावण दहन भी विधिवत संपन्न् हो गया, लेकिन पूरे कार्यक्रम में नीतीश कुमार अकेले-अकेले नजर आए। निमंत्रण के बावजूद बीजेपी का कोई भी नेता इक कार्यक्रम में नहीं पहुंचा। हालांकि कार्यक्रम के दौरान बीजेपी का कोई नेता तो मौजूद नहीं था, लेकिन कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा समते कई बड़े नेता जरूर कार्यक्रम में मौजूद रहे।

हालांकि, बताया जा रहा है कि कार्यक्रम के निमंत्रण पत्र पर बिहार के डिप्टी सीएम और नीतीश कुमार के बेहद करीबी सुशील मोदी का भी नाम था, लेकिन वे कार्यक्रम में नहीं आए। सुशील मोदी के अलावा भी नीतीश सरकार में शामिल बीजेपी का कोई नेता इस कार्यक्रम में नहीं पहुंचा। हालांकि, गांधी मैदान में यह कार्यक्रम हर साल आयोजित होता है, और हर साल तमाम बीजेपी नेता इसमें शरीक होते रहे हैं। अब ऐसे में इस बार बीजेपी नेताओं का नीतीश कुमार के साथ मंच साझा करने से किनारा करना कई सवाल खड़े करता है।

Published: 8 Oct 2019, 9:00 PM
लोकप्रिय