बिहारः नीतीश की सुरक्षा में सेंध पर घिरे डीजीपी, RJD ने विधानसभा में बर्खास्त करने की मांग उठाई

सीएम नीतीश बख्तियारपुर में स्वतंत्रता सेनानी पंडित शील भद्र याजी की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे थे। वे जैसे ही प्रतिमा के पास पहुंचे एक व्यक्ति शंकर वर्मा उर्फ छोटू सुरक्षा भंग कर वहां पहुंच गया और नीतीश कुमार को पीछे से एक घूंसा मार दिया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के बख्तियारपुर में मुख्यमंत्री की सुरक्षा भंग होने के एक दिन बाद आरजेडी नेताओं ने सोमवार को बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस.के. सिंघल को बर्खास्त करने की मांग की। आरजेडी के विधायक ललित यादव ने सोमवार को विधानसभा में सुरक्षा चूक का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि अगर मुख्यमंत्री राज्य में सुरक्षित नहीं हैं, तो हम कैसे उम्मीद करें कि राज्य के आम लोग सुरक्षित रहेंगे।

ललित यादव ने कहा, "यह एक गंभीर सुरक्षा चूक है। हमारे मुख्यमंत्री की सुरक्षा से पूरी तरह से समझौता किया गया है। अगर हम अपने मुख्यमंत्री की रक्षा नहीं करते हैं, तो विशेष शाखा और डीजीपी की प्रासंगिकता क्या होगी। इसलिए, हमने पुलिस महानिदेशक संजीव कुमार सिंघल को बर्खास्त करने की मांग की है।"

विधानसभा में उनके तर्क के बाद स्पीकर विजय सिन्हा ने भी इस चूक पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद से सदन को घटना की जानकारी देने को कहा। प्रसाद ने भी घटना पर चिंता जताते हुए कहा कि घटना बेहद दर्दनाक है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार स्थिति का विश्लेषण कर रही है और भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति से बचने के उपाय कर रही है। हालांकि, विपक्षी नेता उपमुख्यमंत्री के जवाब से संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने नारेबाजी की।


गौरतलब है कि रविवार को सीएम नीतीश कुमार पटना से सटे बख्तियारपुर बाजार में महान स्वतंत्रता सेनानी और सामाजिक कार्यकर्ता पंडित शील भद्र याजी की प्रतिमा को श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे थे। वे जैसे ही प्रतिमा के पास पहुंचे एक मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति शंकर कुमार वर्मा उर्फ छोटू सुरक्षा भंग कर वहां पहुंच गया और नीतीश कुमार को पीछे से एक घूंसा मार दिया। जिसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने तुरंत उसे पकड़ लिया और हिरासत में ले लिया।

हालांकि घटना के बाद मुख्यमंत्री ने सुरक्षाकर्मियों से हमलावर शंकर वर्मा के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने को कहा। उन्होंने सुरक्षाकर्मियों से उसकी समस्या का समाधान करने को भी कहा और साथ ही उनका इलाज कराने को भी कहा है। इस बीच बख्तियारपुर के व्यापारियों ने शहर को बंद करने का फैसला किया। उन्होंने काले रिबन पहनकर बाजार में मुख्यमंत्री के प्रति सम्मान दिखाने के लिए विरोध मार्च भी निकाला।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia