बिहार: शराब मामले में घिरे नीतीश के मंत्री की सफाई- ‘दूध का व्यापार करता हूं, भाई दोषी तो जाए जेल’

रामसूरत राय ने कहा कि शराब बरामदगी में उनके भाई हंसरलाल राय सहित 13 लोगों को आरोपी बनाया गया है। दर्ज प्राथमिकी में भी स्पष्ट कहा गया है कि जिस जमीन पर शराब बरामद हुई है, वह हंसलाल राय की है। इसके बाद मैं कहां से दोषी हूं। न मेरा स्कूल है, न मेरी जमीन।

फोटो सौजन्यः प्रभात खबर
फोटो सौजन्यः प्रभात खबर
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के मुजफ्फरपुर के एक स्कूल में शराब बरामदगी के बाद विपक्ष के निशाने पर आए नीतीश सरकार के राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय ने शनिवार को सफाई दी। उन्होंने कहा कि उनका दूध का व्यापार है और आज भी, मैं आज भी दूध बेचते हैं। उन्होंने कहा कि अगर उनका भाई दोषी है तो वह जेल जाएगा।

बीजेपी प्रदेश कार्यालय में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में मंत्री ने कहा कि उनका घर अहियापुर थाना क्षेत्र में है, जबकि जहां से शराब बरामद हुई थी, वह बोचहा थाना क्षेत्र में है। उन्होंने कहा कि जिस स्कूल से शराब बरामद हुई, वह जिस जमीन पर है, वह उनके भाई ने खरीदी है। उन्होंने कहा कि पुश्तैनी जमीन का 2012 में ही रजिस्टर्ड बंटवारा हो चुका है। उन्होंने कहा कि जिस जमीन पर स्कूल है, उसे उनके भाई ने 2014 में अपनी कमाई से खरीदा है।

मंत्री रामसूरत राय ने कहा कि शराब बरामदगी मामले में उनके भाई हंसरलाल राय सहित 13 लोगों को आरोपी बनाया गया है। उन्होंने कहा कि दर्ज प्राथमिकी में भी स्पष्ट कहा गया है कि जिस जमीन पर शराब बरामद हुई है, वह हंसलाल राय की है। उन्होंने कहा , "इसके बाद मैं कहां से दोषी हूं। न मेरी स्कूल है, न मेरी जमीन।"

उन्होंने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि जो शराब बेचता है, उसके भाई को बगल में बैठाकर तेजस्वी यादव प्रेस कांफ्रेंस करते हैं, तो कौन शराब बेचने वालों को संरक्षण दे रहा है। उन्होंने कहा कि शराब बरामदगी के बाद जो वहां कार और बाइक बरामद की गई है, वह अमरेंद्र कुशवाहा की है। मंत्री ने ये भी कहा कि इस मामले में जो भी लोग गिरफ्तार हुए हैं वे महागठबंधन से जुड़े हुए हैं।

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, "तेजस्वी यादव जिनके पिता लालू प्रसाद चारा घोटाला के मामले में सजायाफ्ता हैं, क्या वे इस्तीफा देंगे। तेजस्वी यादव पर कोई मामला दर्ज होगा तो क्या उनके भाई तेजप्रताप यादव इस्तीफा देंगे?" उन्होंने कहा कि पूरे मामले की बड़ी से बड़ी एजेंसी से जांच करवाई जाए, जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। उन्होंने कहा कि वे आज भी दूध बेचते हैं। उनका पुश्तैनी धंधा दूध बेचने का है न कि जहर बेचने का।

बता दें कि नीतीश सरकार में बीजेपी कोटे से मंत्री रामसूरत राय से जुड़े एक स्कूल में शराब बरामदगी के बाद विपक्ष राय को मंत्री पद से बर्खास्त करने की मांग कर रहा है। इस मुद्दे को पिछले कई दिनों से उठा रहे विपक्ष ने आज विधानसभा में भी जमकर हंगामा किया और बात नहीं माने जाने पर पूरे विपक्ष ने आज विधानसभा से निकल कर तेजस्वी यादव के नेतृत्व में राजभवन तक मार्च किया।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;