बिहारः नीतीश के शराब नहीं पीने की शपथ दिलाने का भी असर नहीं, नशे में धुत सरकारी अधिकारी और मुखिया गिरफ्तार

राज्य में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर सरकारी अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने शराब नहीं पीने की शपथ ली है। इसका मकसद लोगों को शराब छोड़ने और बिहार में मद्य निषेध कानून को सफल बनाने के लिए प्रेरित करना है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आह्वान पर जीवन भर शराब नहीं पीने की शपथ लेने वाले सरकारी अधिकारी और जनप्रतिनिधि इन दिनों शराब के नशे में धुत पाए जा रहे हैं। हाल ही में ऐसे दो वाकये सामने आए हैं, जिनमें कृषि विभाग का एक अधिकारी और एक गांव का मुखिया शराब के नशे के धुत पाए गए और इसी हालत में वाहन भी चला रहे थे।

पहली घटना अरवल जिले की है, जब बिहार कृषि विभाग के एक अधिकारी ने शुक्रवार शाम मेहंदिया थाना क्षेत्र के जय बीघा गांव में एक पान की दुकान को टक्कर मार दी। इस हादसे में दुकान के अंदर मौजूद पान बेचने वाला घायल हो गया। इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने चालक को काबू कर स्थानीय पुलिस के हवाले कर दिया।


मेहंदिया पुलिस स्टेशन के एसएचओ अमित कुमार ने बताया कार चालक की पहचान बक्सर के कृषि अधिकारी और आरा के मूल निवासी पिंटू सिंह उर्फ ओम सिंह के रूप में हुई है। वह नशे की हालत में कार चला रहा था। उसकी जांच में ब्रीथ एनालाईजर में 151 प्वाइंट शराब की अत्यधिक मात्रा की पुष्टि हुई है। वह दुर्घटना के समय शराब के नशे में था और राष्ट्रीय राजमार्ग 139 के जरिए अपने पैतृक स्थान आरा लौट रहा था।

दूसरी घटना कटिहार जिले की है, जहां शुक्रवार रात एक नवनिर्वाचित मुखिया लापरवाही से वाहन चलाते हुए पाया गया। प्राणपुर पुलिस स्टेशन के एसएचओ राजीव कुमार झा ने कहा कि ग्राम प्रधान बहुत तेज गति से वाहन चला रहा था। स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि एक कार के तेजी से जाने पर उसका पीछा किया गया और जब वाहन को रोककर उसकी जांच की गई तो वह नशे की हालत में पाया गया था। घटना के बाद आईपीसी की संबंधित धाराओं और शराबबंदी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।


गौरतलब है कि बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर सरकारी अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने शराब नहीं पीने की शपथ ली है। इसका मकसद लोगों को शराब छोड़ने और बिहार में मद्य निषेध कानून को सफल बनाने के लिए प्रेरित करना है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia