बिहार: पहले सिपाही बने ट्रांसजेंडर रचित राज, कैमूर एसपी के बॉडीगॉर्ड के रूप में हुई तैनाती

रचित राज राज्य के पहले ट्रांसजेंडर कांस्टेबल बन गये हैं। यही नहीं देश के पहले ट्रांसमैन सिपाही हो गये हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार पुलिस ने पहली बार एक ट्रांसजेंडर व्यक्ति को कांस्टेबल के रूप में भर्ती किया है। इसी के तहत रचित राज कैमूर जिले के एसपी कार्यालय की गोपनीय शाखा में तैनात होने वाले पहले ट्रांसजेंडर कांस्टेबल बन गए हैं।

रचित राज (23), जिन्हें पहले रचना के नाम से जाना जाता था, ने कहा कि वह एक लड़की के रूप में पैदा हुए, लेकिन उनका कभी भी महिलाओं के कपड़े पहनने या लड़की जैसे बनने का मन नहीं हुआ।

राज ने कहा कि जब मैं 17 साल का था, मैं लड़कों की बजाय लड़कियों की ओर आकर्षित था। एक ट्रांसजेंडर की पहचान स्थापित करना बेहद मुश्किल है। जब मैं बाजार गया, तो लोगों ने टिप्पणी की। कई लोगों ने कहा कि एक लड़की एक लड़के की तरह चल रही है।


उसने आगे बताया कि सभी सामाजिक बाधाओं के बावजूद, मैंने एक ट्रांसजेंडर के रूप में पहचाने जाने के लिए अदालत में एक हलफनामा प्रस्तुत किया था। अपनी शारीरिक पहचान को महिला से पुरुष में बदलना बेहद मुश्किल था। मैंने एक पुरुष के रूप में कांस्टेबल के पद के लिए आवेदन किया था और मैं इस साल चुना गया। प्रशिक्षण के बाद, मुझे कैमूर में एसपी कार्यालय में गोपनीय शाखा में तैनात किया गया है। अब मुझे अपने साथी सहयोगियों से सम्मान मिल रहा है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia