बिहारः जातीय जनगणना से सकते में आई BJP ने की जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग, JDU ने किया खारिज

बीजेपी की मांग खारिज करते हुए जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार इस मुद्दे पर कई बार प्रतिक्रिया दे चुके हैं। शिक्षा के प्रसार के साथ ही जनसंख्या पर नियंत्रण पाया जा सकता है। राज्य में जनसंख्या वृद्धि दर में गिरावट आ रही है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार में भगवा पार्टी की तमाम ना-नुकुर के बावजूद जातीय जनगणना को लेकर रास्ता साफ होने के बाद अब बीजेपी ने जनसंख्या नियत्रण पर कानून की मांग उठा दी है। लेकिन उसकी सहयोगी जेडीयू ने इस मांग को सिरे से खारिज कर दिया है। कई लोग इसे जातीय जनगणना में अड़ंगा लगाने की कोशिश बता रहे हैं।

राज्य की नीतीश सरकार में मंत्री और वरिष्ठ बीजेपी नेता नीरज कुमार बबलू ने मांग की है कि जातीय जनगणना होने के साथ बिहार में जनसंख्या नियंत्रण कानून भी बनना चाहिए। उन्होंने कहा कि बिहार में जो जनसंख्या विस्फोट हुआ है, उसे कंट्रोल किया जाए।


बबलू ने कहा कि सड़कों के निर्माण लगातार हो रहे हैं, उनके लेनों में वृद्धि की जा रही है, लेकिन जनसंख्या वृद्धि के कारण सड़कों पर जाम की स्थिति बन जा रही है। उन्होंने कहा कि बिहार में जनसंख्या नियंत्रण कानून का बनना जरूरी है, जिससे विकास को लोग महसूस कर पाएं। इससे पहले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने की मांग कर चुके हैं।

वहीं, बीजेपी की इस मांग पर जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस मुद्दे पर कई बार प्रतिक्रिया दे चुके हैं। उन्होंने कहा है किशिक्षा के प्रसार के साथ ही बढ़ते जनसंख्या पर नियंत्रण पाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य में जनसंख्या वृद्धि की दर में गिरावट आ रही है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia