बिहार: RJD में संकट के बीच तेजप्रताप ने निकाली जनशक्ति यात्रा, गांधी मैदान से नंगे पैर चलकर पहुंचे जेपी आवास

इस मौके पर जेपी के बताए रास्ते पर चलने का संकल्प लेते हुए तेज प्रताप ने कहा कि हमारे पिताजी लालू प्रसाद ने छात्र आन्दोलन में जेपी का साथ दिया था, जेल भरो आंदोलन किया था। वैसे ही अब छात्रों, युवाओं को एकजुट कर लालू प्रसाद आंदोलन चलाया जाएगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने लगता है कि अब अलग राह पकड़ ली है। तेजप्रताप ने सोमवार को पटना में जनशक्ति यात्रा निकाली। इस यात्रा में तेजप्रताप नंगे पैर गांधी मैदान से चलकर चरखा समिति पहुंचे, जहां लोकनायक जयप्रकाश नारायण का आवास है। इस दौरान उन्होंने कहा कि वे लालू प्रसाद आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि छात्र और जनता ही मेरी पार्टी हैं।

आरजेडी से नाराज बताए जा रहे तेजप्रताप सोमवार को अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जयप्रकाश नारायण की जयंती के मौके पर गांधी मैदान पहुंचे और जनशक्ति यात्रा पर निकले। इस यात्रा में उनके साथ उनके संगठन छात्र जनशक्ति परिषद के सैकड़ों कार्यकर्ता शामिल थे। तेजप्रताप की यह यात्रा जेपी आवास (चरखा समिति) पहुंचकर समाप्त हो गई। तेजप्रताप ने यहां जेपी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और उन्हें याद किया। इस दौरान उन्होंने बैठकर कुछ देर चिंतन भी किया।


इस मौके पर जेपी के बताए रास्ते पर चलने का संकल्प लेते हुए उन्होंने कहा कि हमारे पिताजी (लालू प्रसाद) ने छात्र आन्दोलन में जेपी का साथ दिया था, जेल भरो आंदोलन चला था। उन्होंने कहा कि बिहार में शिक्षा, रोजगार, भ्रष्टाचार के मुद्दे पर जिस तरह उन्होंने आंदोलन चलाने का काम किया था वैसे ही अब छात्रों, युवाओं को एकजुट कर लालू प्रसाद आंदोलन चलाया जाएगा।

आरजेडी से अलग होने के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि छात्र और जनता ही मेरी पार्टी है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि जिसको जो कहना है कहे। उन्होंने आगे यह भी कहा कि आज के दिन कोई राजनीतिक बात नहीं करूंगा।

गौरतलब है कि पिछले दिनों तेजप्रताप यादव ने अपना अलग संगठन छात्र जनशक्ति परिषद बनाया था। इसके बाद आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने उनके आरजेडी में ही रहने पर सवाल उठा दिए थे। इसके बाद से तेज प्रताप यादव और भाई तेजस्वी यादव के बीच अनबन के कयास लगाए जाने लगे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia