बिहारः तेजस्वी ने नल जल योजना में भ्रष्टाचार पर बोला हमला, कहा- अब थक चुके हैं नीतीश कुमार

नल जल योजना में उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद के साले, बहू और रिश्तेदारों को करीब 53 करोड़ रुपये का ठेका देने का आरोप लगा है। तेजस्वी ने कहा कि सिर्फ डिप्टी सीएम ही नहीं, बल्कि जेडीयू और बीजेपी के अन्य कई नेताओं और उनके संबंधियों को भी लाभ पहुंचाया गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार में नल जल योजना के तहत उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद के रिश्तेदारों को ठेका देने के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता और विधानसभा में नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने गुरुवार को हमला बोलते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब थक चुके हैं, वे क्राइम, करप्शन और कम्युनलिज्म से समझौता करने को तैयार हैं। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि राज्य की नल जल योजना 'नल धन योजना' बन गई है।

पटना में तेजस्वी यादव ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि नल जल योजना में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। उन्होंने मुख्यमंत्री को चुनौती देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री 50 पंचायतों का नाम बता दें जहां सही ढंग से काम हुआ है। उन्होंने कहा कि इस योजना में कैसा भ्रष्टाचार हुआ है, सब जानते हैं। उन्होंने कहा कि आरजेडी के कटिहार के नेता राम प्रकाश महतो ने इसकी जानकारी अगस्त 2020 में ही दी थी। उसके बाद मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर भी उन्होंने योजना में गड़बड़ी की शिकायत की थी।

बता दें कि नल जल योजना में उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद के साले, बहू और रिश्तेदारों को करीब 53 करोड़ रुपये का ठेका दिए जाने का आरोप लगाया गया है। तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि सिर्फ तारकिशोर प्रसाद ही नहीं, बल्कि जेडीयू और बीजेपी के अन्य कई नेताओं और उनके संबंधियों को भी नल जल योजना के तहत लाभ पहुंचाया गया है।


उन्होंने कहा कि जिन कंपनियों को इस योजना के तहत कटिहार में ठेका दिया गया है, उसके पते पर कंपनी का कोई साइन बोर्ड तक नहीं है। उन्होंने नियम का हवाला देते हुए कहा कि ठेका उन्हीं को मिलता है, जिन्हें सरकारी कार्य का अनुभव होता है, लेकिन कटिहार में डिप्टी सीएम के रिश्तेदारों की जिन कंपनियों को ठेका दिया गया है, उन्हें कोई अनुभव नहीं है।

तेजस्वी ने कहा कि इस मामले के प्रकाश में आने के बाद उपमुख्यमंत्री कह रहे हैं कि बिजनेस करना बुरी बात नहीं है। ठीक है, बिजनेस करना बुरी बात नहीं है, लेकिन भ्रष्टाचार करना ही इनका बिजनेस है। तेजस्वी ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि भ्रष्टाचार को नीतीश कुमार का प्रोटेक्शन और एक्सेप्टेंस है।

इधर, तेजस्वी के आरोपों के बाद एनडीए में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) ने तेजस्वी पर पलटवार किया है। हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि नल जल योजना को लेकर जिस तरह तेजस्वी यादव ने बयान दिया है वह बताता है कि वे अभी राजनीति के क्षेत्र में अपरिपक्व हैं।
उन्होंने कहा कि तेजस्वी को याद रखना चाहिए कि आरजेडी काल में बंदूक के बल पर टेंडर लालू प्रसाद के लोगों को दे दिया जाता था। रिजवान ने कहा कि तेजस्वी जो आरोप लगा रहे हैं वहां नल जल योजना में ओपन टेंडर था, जिसमें कोई भी टेंडर डाल सकता था, इसमें उपमुख्यमंत्री का कोई हाथ नहीं हो सकता।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia