बिहार: कांग्रेस के मुस्लिम विधायक ने संस्कृत में ली शपथ, सदस्यों ने तारीफ में थपथपाई मेज

शपथ ग्रहण के बाद कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान ने कहा कि संस्कृत हिंदुस्तान की रूह की जुबान है। यह सभ्यता और संस्कृति की भाषा रही है। यह अलग बात है कि समय गुजरने के बाद, आमलोगों की भाषा नहीं बन सकी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आसिफ एस खान

बिहार चुनाव के बाद नवगठित विधानसभा के पहले सत्र के पहले दिन सोमवार को नवनिर्वाचित विधायकों का शपथ ग्रहण हुआ। इस दौरान जमकर राजनीति भी देखने को मिली। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के विधायक अख्तरुल इमान ने जहां देश का नाम भारत की जगह हिंदुस्तान लिखे जाने पर आपत्ति जताई, वहीं कटिहार के कदवा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान ने संस्कृत भाषा में शपथ ग्रहण कर सौहार्द की मिसाल पेश की।

कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान जब संस्कृत में शपथ ग्रहण कर रहे थे, तब कई सदस्यों ने मेज थपथपाकर उनकी तारीफ की। सदन से बाहर निकलने के बाद खान ने कहा, "उर्दू उनकी भाषा है। इसे आगे बढ़ाने के लिए विधानसभा के बाहर और अंदर मैं अपनी आवाज उठाता रहा हूं। संस्कृत हिंदुस्तान की रूह की जुबान है। यह सभ्यता और संस्कृति की भाषा रही है। यह अलग बात है कि समय गुजरने के बाद, आमलोगों की भाषा नहीं बन सकी।"

कांग्रेस विधायक ने कहा, "संस्कृत मुझे प्रारंभ से अच्छी लगती है। सभी भाषाएं सही हैं। किसी भाषा से भेदभाव नहीं हो, किसी पर भाषा भी नहीं थोपी जाए, यह भी सरकार की पॉलिसी होनी चाहिए।" उन्होंने कहा कि भारत विविधताओं का देश है और यहां सभी जुबानें बोली जाती हैं। उन्होंने कहा, "आज बिहार सरकार भाषा को लेकर क्या कर रही है। आज स्कूलों में मातृभाषा को लेकर शिक्षक तक नहीं हैं।"

विधायक शकील अहमद ने आज ही सदन में हिंदुस्तान पर एआईएमआईएम विधायक अख्तरुल इमान के विवादद पर उन्हें नसीहत देते हुए कहा कि वे पहले भी विधानसभा के सदस्य रह चुके हैं। पहली बार उन्होंने जब विधानसभा की शपथ ली थी, तब क्या उन्होंने हिंदुस्तान शब्द पर ऐतराज जताया था, उन्हें याद करना चाहिए।

बता दें कि आज असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के विधायक अख्तरुल इमान ने शपथ लेते वक्त उसमें छपे देश के नाम हिंदुस्तान की जगह भारत कहने की इजाजत मांगी। इमान ने उर्दू में शपथ लेने की अनुमति मांगी थी। इमान ने कहा कि संविधान में देश का नाम भारत लिखा हुआ है। बाद में उन्होंने उर्दू भाषा में शपथ लेते हुए देश का नाम भारत पढ़ा। इसे लेकर सत्ता पक्ष के विधायक नाराज भी हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय