बिहारः BJP के मंत्री के ओएसडी के ठिकानों पर विजिलेंस का छापा, कई शहरों में संपत्तियों के दस्तावेज बरामद

एसवीयू ने कहा कि गुरुवार को पटना विशेष सतर्कता कोर्ट द्वारा इन सभी के खिलाफ सर्च वारंट जारी हुआ था, जिसके आलोक में आज मंत्री के ओएसडी के ठिकानों पर छापेमारी हुई। फिलहाल पटना, कटिहार और अररिया जिलों में आवासों और कार्यालयों में छापेमारी जारी है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार की नीतीश सरकार में बीजेपी के मंत्री जनक राम के ओएसडी और उनके रिश्तेदारों के ठिकानों पर शुक्रवार की सुबह विशेष सतर्कता इकाई (एसवीयू) ने छापेमारी की। इस दौरान दिल्ली, कोलकाता और पश्चिम बंगाल के अन्य हिस्सों में संपत्तियों के कई दस्तावेज के साथ एक जगह से 15 लाख रुपये नकद भी बरामद किए गए हैं।

एसवीयू के एडीजीपी नय्यर हसनैन खान के कार्यालय से जारी पत्र के अनुसार 25 नवंबर को जनक राम के ओएसडी मृत्युंजय कुमार, उनके भाई धनंजय कुमार और उनकी प्रेमिका रत्ना चटर्जी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 की धारा 13(1बी), 13(2) और 12 और आईपीसी की धारा 120बी के तहत पटना के विजिलेंस थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई थी।


एक अधिकारी ने छापेमारी की जानकारी देते हुए बताया कि गुरुवार को विशेष सतर्कता कोर्ट, पटना द्वारा इन सभी के खिलाफ सर्च वारंट जारी किया गया था। जिसके आलोक में आज मंत्री के ओएसडी के ठिकानों पर छापेमारी हुई। उन्होंने कहा कि फिलहाल पटना, कटिहार और अररिया जिलों में आवासों और कार्यालयों में छापेमारी जारी है।

इस छापेमारी के दौरान विजिलेंस टीम ने दिल्ली, कोलकाता और पश्चिम बंगाल के अन्य हिस्सों में संपत्तियों के कई दस्तावेज बरामद किए हैं। इसके अलावा, अधिकारियों ने अररिया जिले में रत्ना चटर्जी के घर से 15 लाख रुपये नकद भी बरामद किए हैं। बता दें कि इससे पहले दिल्ली पुलिस ने जनक राम के निजी सचिव बबलू कुमार आर्य को भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;