मेघालयः मोदी-शाह ने जिस कॉनराड संगमा को बताया था भ्रष्टतम मुख्यमंत्री, BJP फिर उन्हीं की सरकार में शामिल हुई

बीजेपी मेघालय में गठबंधन सरकार का हिस्सा बनकर सत्ता में है, लेकिन पहाड़ी राज्य में ईसाई समुदाय के बीच भगवा पार्टी की स्वीकार्यता अभी भी एक बड़ा सवाल बनी हुई है और इसका प्रमुख कारण उसकी हिंदुत्व की राजनीति है।

कॉनराड संगमा सरकार में शामिल हुई BJP, मोदी-शाह ने बताया था भ्रष्टतम मुख्यमंत्री
कॉनराड संगमा सरकार में शामिल हुई BJP, मोदी-शाह ने बताया था भ्रष्टतम मुख्यमंत्री
user

नवजीवन डेस्क

मेघालय में बीजेपी दूसरी बार कॉनराड संगमा के नेतृत्व वाली नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) की सरकार में शामिल हो गई है। खास बात यह है कि पीएम मोदी, अमित शाह और कई शीर्ष नेताओं सहित बीजेपी के कई नेताओं ने पिछले साल राज्य के विधानसभा चुनाव से पहले संगमा को देश का सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री करार दिया था।

मेघालय में बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष अर्नेस्ट मावरी ने कहा था कि बिजली और अन्य विभाग जहां पिछले पांच वर्षों में सबसे अधिक भ्रष्टाचार हुआ, वे या तो एनपीपी या उनके गठबंधन सहयोगी यूडीपी के पास थे। उन्होंने दावा किया कि पिछले साल या उसके आसपास दायर किए गए बहुत सारे आरटीआई आवेदनों के माध्यम से, हमने देखा है कि मौजूदा शासन के तहत मेघालय में किस तरह बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार चल रहा है, हमारे पास सभी रिकॉर्ड हैं।

मावरी के अनुसार, कॉनराड संगमा के भ्रष्टाचार के मुद्दों पर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा और अन्य शीर्ष बीजेपी नेताओं के साथ चर्चा की गई। मेघालय में चुनाव से पहले बीजेपी पहाड़ी राज्य में अच्छे प्रदर्शन को लेकर काफी आश्वस्त थी। मावरी ने यह भी भविष्यवाणी की थी कि बीजेपी इस बार दो अंकों में पहुंचेगी। हालांकि, चुनाव परिणाम भगवा पार्टी के लिए निराशाजनक थे, क्योंकि वह 60 सदस्यीय विधानसभा क्षेत्र में उसे केवल दो सीटें ही मिलीं।

2018 में भी बीजेपी ने दो सीटें जीतीं और उनका वोट प्रतिशत 9.60 फीसदी था, जो और गिरकर 9.30 फीसदी पर आ गया। एक शीर्ष स्थानीय बीजेपी नेता ने कहा कि चूंकि पार्टी ने पहली बार मेघालय में सभी सीटों पर चुनाव लड़ा, इसलिए वोट प्रतिशत में मामूली गिरावट देखी गई। बीजेपी राज्य के गारो हिल्स क्षेत्र में बड़ी उम्मीद कर रही थी और आंतरिक सर्वेक्षणों में पार्टी को वहां कम से कम 10 सीटें जीतने का अनुमान लगाया गया था।


जीत की उम्मीदों पर सवार होकर बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने एनपीपी प्रमुख कॉनराड संगमा के खिलाफ तीखा हमला किया, अमित शाह ने मेघालय के मुख्यमंत्री को पूरे देश में सबसे भ्रष्ट कहा। केंद्रीय गृह मंत्री ने आरोप लगाया कि मेघालय के लोगों के कल्याण के लिए केंद्र द्वारा भेजा गया पैसा लाभार्थियों तक नहीं पहुंच सका, क्योंकि संगमा के तहत राज्य में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार चल रहा था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मेघालय में हाई-वोल्टेज अभियान में हिस्सा लिया और नेशनल पीपुल्स पार्टी पर तंज किया।

लेकिन चुनाव परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद बीजेपी ने मेघालय में एक और गठबंधन सरकार बनाने के लिए तुरंत एनपीपी को अपना समर्थन दे दिया। इस बार मेघालय चुनाव में बीजेपी के दो उम्मीदवार सनबोर शुल्लाई और ए एल हेक जीते। शुल्लाई पिछली मेघालय गठबंधन सरकार में मंत्री थे और हेक को इस बार बीजेपी ने मंत्री बनाया है। राजनीतिक पर्यवेक्षकों के अनुसार, शुल्लाई और हेक दोनों में पार्टी के बिना जीत हासिल करने की क्षमता है, और इसलिए दोनों जीत मतदाताओं के बीच दोनों नेताओं की पार्टी से ज्यादा व्यक्तिगत स्वीकृति के कारण मिली।

हालांकि बीजेपी मेघालय में खुद को गठबंधन सरकार का हिस्सा बनाकर सत्ता में है, लेकिन पहाड़ी राज्य में ईसाई समुदाय के बीच भगवा पार्टी की स्वीकार्यता अभी भी एक बड़ा सवाल बनी हुई है। मेघालय में बीजेपी के ख़िलाफ़ दो कारक काम कर रहे हैं- पहला, हिंदुत्व की राजनीति और दूसरा, एक प्रमुख और मजबूत स्थानीय नेता की कमी जिसके इर्द-गिर्द एक कहानी बनाई जा सके।

जब तक बीजेपी उपरोक्त दोनों में से कम से कम एक मुद्दे का समाधान नहीं ढूंढ लेती, तब तक भगवा खेमे के लिए मेघालय में प्रवेश करना कठिन है। राजनीतिक पर्यवेक्षकों ने तर्क दिया कि इन दो कारकों के कारण, बीजेपी दूसरी बार मेघालय में एनपीपी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार में शामिल हुई, जबकि कॉनराड संगमा को अमित शाह द्वारा सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री करार दिया गया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;