लखीमपुर हिंसा पर बीजेपी के सहयोगी भी नाराज, अपना दल ने की मंत्री के बेटे की जल्द गिरफ्तारी की मांग

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में चौतरफा घिरी बीजेपी अब विपक्ष के साथ अपने सहयोगियों के भी निशाने पर आ गई है। अब अपना दल ने हिंसा मामले में गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी की मांग की है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। मामले में आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की अब तक गिरफ्तारी नहीं होने से राज्य की बीजेपी सरकार विपक्ष के निशाने पर है। लेकिन अब बीजेपी के सहयोगी दलों ने भी घटना को लेकर नाराजगी जताना शुरू कर दिया है और आशीष मिश्रा की जल्द गिरफ्तारी की मांग उठा दी है।

दरअसल बीजेपी की सहयोगी पार्टी अपना दल ने हिंसा के मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की अब तक गिरफ्तारी नहीं होने पर सवाल उठाया है। साथ ही अपना दल ने किसानों को कुचलने के आरोपी आशीष मिश्रा को जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है। अपना दल (एस) के कार्यकारी अध्यक्ष आशीष पटेल ने आशीष मिश्रा की तुरंत गिरफ्तारी की मांग की है। उन्होंने कहा कि बिना देर किए आशीष मिश्रा को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए।


बता दें कि लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में रविवार को एक कार्यक्रम में डिप्टी सीएम केशव मौर्या का आने का विरोध कर रहे किसानों पर कथित तौर पर आशीष मिश्रा ने अपनी गाड़ी चढ़ा दी थी, जिसमें कई किसानों की मौत हो गई। इस घटना के बाद वहां हिंसा भड़क गई औऱ बड़े पैमाने पर तोड़फोड़ और आगजनी में चार किसानों समेत 9 लोगों की मौत हो गई।

लखीमपुर हिंसा मामले में बहराइच के जगजीत सिंह ने एफआईआर दर्ज कराई है, जिसमें आशीष मिश्रा समेत 15-20 अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है। पुलिस ने आशीष मिश्रा पर दंगे भड़काने, लापरवाही से गाड़ी चलाने और हत्या का केस दर्ज किया है। लेकिन अभी तक इस मामले में आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है, जिससे लोगों में गुस्सा भड़कता जा रहा है।


एफआईआर में कहा गया है कि घटना के दिन आशीष मिश्रा 15 से 20 हथियारबंद लोगों के साथ तीन गाड़ियों में बनबीरपुर पहुंचे थे। आशीष महिंद्रा थार में बाईं ओर बैठे थे और वहां से गोलियां चलानीं शुरू कर दी और भीड़ को रौंदते हुए आगे बढ़ गए। फायरिंग में गुरविंदर सिंह की मौत हो गई। आशीष की गाड़ी आगे जाकर पलट गई, जिसमें कई लोग घायल हो गए। इसके बाद आशीष कार से बाहर आ गए और गोलियां चलाते हुए गन्ने के खेत में छिप गए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia