बीजेपी ने बाबुल सुप्रियो को बताया अवसरवादी, तो TMC ने कहा- ये तो शुरुआत है, अभी और आएंगे

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियो के तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने पर तृणमूल कांग्रेस के महासचिव और सीएम ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने कहा कि ये तो बस शुरुआत है, अभी और बहुत लोग आने वाले हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के तृणमूल कांग्रेस में जाने से हुई बीजेपी बैकफुट पर है। बंगाल में लगातार लग रहे झटकों में से सबसे तगड़े झटके के बाद बीजेपी आसनसोल से दो बार के सांसद सुप्रियो पर शनिवार को न केवल पार्टी, बल्कि अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के साथ भी विश्वासघात करने का आरोप लगाया। वहीं, ममता बनर्जी के भतीजे और टीएमसी महासचिव अभिषेक बनर्जी ने कहा कि ये तो बस शुरुआत है, अभी और कई लोग आएंगे।

इससे पहले शनिवार को दोपहर में पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो, जिन्हें 7 जुलाई को मोदी सरकार से इस्तीफा देना पड़ा था, तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्होंने दक्षिण कोलकाता में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी के कार्यालय में तृणमूल का झंडा ग्रहण किया।
इस मौके पर तृणमूल ने सुप्रियो के पार्टी में प्रवेश की सराहना की, लेकिन इस घटना से सकते में आई बीजेपी अपने पूर्व नेता पर हमलावर हो गई।

बीजेपी प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा, "बाबुल सुप्रियो ने बिना कोई विभाग छोड़े, पार्टी छोड़ दी और यह साबित करता है कि वह केवल लाभ के लिए पार्टी में थे। अब वह तृणमूल कांग्रेस के साथ हैं, क्योंकि शायद उनसे कुछ बड़ा वादा किया गया है। वह अवसरवादी हैं। उन्होंने न केवल पार्टी को, बल्कि अपने क्षेत्र के लोगों के साथ भी धोखा किया है। एक बात मैं कह सकता हूं कि बीजेपी को आसनसोल से फिर एक सांसद मिलेगा।"

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा कि यह एक अस्थायी झटका है और बीजेपी निश्चित रूप से इससे उबर जाएगी। उन्होंने कहा, "लोगों को पैसे और ताकत का लालच देना या पुलिस और एजेंसियों से धमकाना और उन्हें पार्टी में लाना स्वस्थ राजनीति नहीं हो सकती। भाजपा एक संगठन आधारित पार्टी है जो नैतिकता और सिद्धांतों पर चलती है, इसलिए हम इससे परेशान नहीं हैं।"


बीजेपी नेताओं पर पलटवार करते हुए तृणमूल सांसद और दिग्गज नेता सौगत रॉय ने मीडिया से कहा, "विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी के चार विधायक और एक सांसद तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए हैं और इनकी देखादेखी और भी आएंगे। बीजेपी में कई बड़े नाम हैं जो इंतजार कर रहे हैं। यह बीजेपी के अंत की शुरुआत है। कोई भी सही सोच वाला वहां नहीं रह सकता।"

तृणमूल कांग्रेस प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा, "चुनाव से पहले बीजेपी ने जो किया, क्या वह नैतिक राजनीति थी? वे हमारे लोगों को ले रहे थे और अब जब प्रक्रिया उलट गई है, तो वे अचानक नैतिकता और सिद्धांतों के बारे में चिंतित हो गए हैं। उन्हें वही रिटर्न मिल रहा है और वे इसे फिर से देखेंगे।"

हालांकि कांग्रेस और सीपीएम ने इसे 'अवसरवादियों की राजनीति' करार दिया। सीपीएम नेता सुजान चक्रवर्ती ने कहा, "जिस व्यक्ति ने नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की थी और ममता बनर्जी पर आरोप लगाया था, उसका रंग अचानक बदल गया है। ममता बनर्जी अचानक एक असाधारण नेता बन गई हैं। क्या यह राजनीति है? यह व्यवसाय है। तृणमूल कांग्रेस ने उन्हें कोई बेहतर पेशकश की है, इसलिए वह उनके साथ हो गए। अगर कल कोई और पार्टी उन्हें कुछ बेहतर ऑफर करती है, तो उन्हें तृणमूल छोड़ने में दो मिनट लगेंगे।"

वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा, "यह राजनीति नहीं है। यह एक दुकान पर जाकर प्रस्ताव मांगने जैसा है। मुझे जो दुकान सबसे अच्छी पेशकश देती है, मैं वहां से सामान खरीदता हूं। इसी तरह की बात है। न तो कोई नैतिकता है और न ही कोई सिद्धांत है और मुझे तो तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच कोई अंतर नहीं दिखता है।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia