ममता की शानदार जीत से बीजेपी में बढ़ी बेचैनी, कई विधायकों और नेताओं के तृणमूल में जाने की आशंका

एक बीजेपी नेता ने कहा कि, "मुकुल रॉय के हमें छोड़ने के बाद, हमने महसूस किया है कि कुछ और नेता भी हमें छोड़ देंगे। ममता की जीत के बाद हमें आशंका है, खासकर जो विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हुए थे, वे आने वाले दिनों में तृणमूल में शामिल होंगे।"

Getty Images
Getty Images
user

आईएएनएस

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की भवानीपुर से प्रचंड जीत के बाद, बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई को अब भय सताने लगा है कि राज्य में उसके कई और विधायक और नेता सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे। 2 मई को पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद, तत्कालीन राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय सहित भगवा पार्टी के कई विधायक तृणमूल में शामिल हो गए हैं।

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पिछले पांच महीनों में, बीजेपी के पांच विधायक तृणमूल में शामिल होने के लिए पार्टी छोड़ चुके हैं और रविवार के नतीजों के बाद - जहां बनर्जी ने अपनी प्रतिद्वंद्वी बीजेपी की प्रियंका टिबरेवाल को 58,832 मतों के रिकॉर्ड अंतर से हराया, वे कुछ और मौजूदा विधायकों और नेताओं के सत्तारूढ़ दल में शामिल होने की उम्मीद कर रहे हैं।

ममता ने 2011 में 54,213 मतों से जीत के अंतर से और आगे बढ़ते हुए भवानीपुर से 58 हजार से अधिक मतों से जीत हासिल की है। ध्यान रहे कि पिछले महीने ही पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियो भी तृणमूल में शामिल हुए थे।

एक बीजेपी नेता ने कहा कि, "मुकुल रॉय के हमें छोड़ने के बाद, हमने महसूस किया है कि कुछ और नेता भी हमें छोड़ देंगे। ममता की जीत के बाद हमें आशंका है, खासकर जो विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हुए थे, वे आने वाले दिनों में तृणमूल में शामिल होंगे।"


ऐसी अटकलें हैं कि बीजेपी के कई विधायक तृणमूल नेतृत्व के संपर्क में हैं और पार्टी के एक अन्य वरिष्ठ नेता ने कहा कि बीजेपी राज्य नेतृत्व इन नेताओं को जाने से रोकने की पूरी कोशिश कर रहा है। नेता ने कहा, "लेकिन जिस तरह से हमारे विधायक तृणमूल में शामिल हुए, जेसा लगता है कि राज्य नेतृत्व हमें छोड़ने के अपने फैसले को बदलने में सक्षम नहीं है। लेकिन हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को तृणमूल में शामिल होने से रोकने की कोशिश कर रहे हैं।"

गौरतलब है कि जून में कृष्णानगर उत्तर विधानसभा सीट से जीतने वाले मुकुल रॉय बीजेपी छोड़कर तृणमूल में फिर से शामिल हो गए। सितंबर में, तीन बीजेपी विधायकों - बिष्णुपुर से तन्मय घोष, बगदा से बिस्वजीत दास और कालियागंज से सौमेन रॉय ने भी बीजेपी छोड़कर तृणमूल का दामन थाम लिया था। रायगंज से बीजेपी विधायक कृष्ण कल्याणी ने हाल ही में घोषणा की है कि उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia