ग्वालियर के बाद तोमर के मुरैना में भी बीजेपी ने गंवाया मेयर पद, कांग्रेस ने 25 साल बाद रीवा में भी दर्ज की जीत

ग्वालियर, रीवा और मुरैना में कांग्रेस की जीत से कार्यकर्ताओं में विश्वास बढ़ेगा। ग्वालियर-चंबल संभाग को बीजेपी के दिग्गज ज्योतिरादित्य सिंधिया और नरेंद्र तोमर का गढ़ माना जाता है। रीवा की सभी 8 विधानसभा सीट बीजेपी के पास है, जबकि सांसद भी बीजेपी से ही हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश में नगर निकाय चुनाव के पहले चरण की मतगणना में कांग्रेस से ग्वालियर का मेयर पद गंवाने के बाद ग्वालियर-चंबल संभाग में सत्तारूढ़ बीजेपी को एक और झटका लगा है। बीजेपी ने दूसरे चरण में मुरैना नगर निगम में मेयर पद गंवा दिया है, जो पार्टी के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का गृह क्षेत्र है।

वहीं कांग्रेस ने 25 साल बाद रीवा नगर निगम के महापौर पद पर भी बीजेपी को बुरी तरह हरा दिया है। रीवा के मेयर पद पर कांग्रेस प्रत्याशी अजय मिश्रा (बाबा) ने बीजेपी के प्रबोध व्यास को हराकर जीत हासिल की। इसी तरह, मुरैना में मेयर पद के लिए कांग्रेस प्रत्याशी शारदा सोलंकी ने बीजेपी की मीना जाटव को हराया।

बुधवार को दूसरे चरण की मतगणना में घोषित पांच नगर निगम परिणामों में से बीजेपी और कांग्रेस दोनों को दो-दो मेयर पद मिले हैं। बीजेपी ने रतलाम और देवास नगर निगमों में मेयर पदों को बरकरार रखा, जबकि एक निर्दलीय उम्मीदवार ने कटिनिया मेयर पद पर जीत हासिल की।


इसी के साथ मध्य प्रदेश के 16 नगर निगमों में बीजेपी ने 9 (पहले चरण में सात और दूसरे चरण में दो) महापौर पदों पर कब्जा जमाया है। विपक्षी कांग्रेस, जो पिछले चुनावों में सभी महापौर पदों को खो चुकी थी, पांच मेयर पद (पहले चरण में 3 और दूसरे चरण में 2) जीतने में कामयाब रही है। जबकि आम आदमी पार्टी (आप) को एक मेयर पद (सिंगरौली) और एक निर्दलीय उम्मीदवार को कटनी में जीत मिली है।

मध्य प्रदेश में 1999 में महापौर पदों के लिए सीधे चुनाव की शुरूआत के बाद से यह पहली बार है जब कांग्रेस के पास पांच महापौर होंगे। ग्वालियर के मेयर पद पर कांग्रेस की जीत और अब रीवा और मुरैना में जीत से पार्टी कैडर का विश्वास बढ़ेगा। ग्वालियर-चंबल संभाग को बीजेपी के दो दिग्गज केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और नरेंद्र सिंह तोमर का गृह क्षेत्र माना जाता है। रीवा में कुल आठ विधानसभा सीटें हैं और 2018 में सभी 8 सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की थी। रीवा से सांसद भी बीजेपी से ही हैं।


नगर निकाय चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि मुरैना में कांग्रेस पार्टी ने पहली बार प्रचंड जीत दर्ज की है। मुरैना के साथ ही पूरे ग्वालियर-चंबल पट्टी के लोगों ने कहा है कि वे पूरी तरह कांग्रेस पार्टी के साथ हैं। यह जीत जनता की जीत है और 15 महीने बाद मध्य प्रदेश में बड़े बदलाव का आह्वान है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 20 Jul 2022, 8:18 PM
;