महाराष्ट्र में भले गठबंधन से बच गई बीजेपी की लाज, लेकिन कांग्रेस ने नागपुर में हिला दिया आरएसएस का गढ़

महाराष्ट्र में भले बीजेपी और शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिल गया हो, लेकिन इन नतीजों से बीजेपी के पैतृक संगठन आरएसएस को बड़ा झटका लगा है। अब तक संघ का गढ़ रहे नागपुर में कांग्रेस ने कई सीटों पर बीजेपी को पछाड़ दिया।

फाइल फोटोः gettyimages
फाइल फोटोः gettyimages
user

नवजीवन डेस्क

भले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों में बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन बहुमत हासिल करता नजर आ रहा है, लेकिन अब तक के नतीजे और रूझान बीजेपी के साथ ही उसके पैतृक संगठन आरएसएस के लिए बड़ा झटका लेकर आए हैं। दरअसल महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के आज आए नतीजों में कांग्रेस ने संघ के गढ़ को ही पूरी तरह हिला दिया है। आरएसएस का गढ़ माने जाने वाले नागपुर में धमाकेदार एंट्री करते हुए कांग्रेस ने कई सीटों पर बीजेपी उम्मीदवारों को पछाड़ दिया है।

बता दें कि अब तक नतीजों और रुझानों के अनुसार नागपुर जिले की कुल 12 विधानसभा सीटों में से बीजेपी को सिर्फ 5 सीट मिल रही है। यहां की आधे से ज्यादा सीटों पर कांग्रेस और एनसीपी ने जीत दर्ज की है। कांग्रेस 5 सीटों पर तो एनसीपी एक सीट पर जीत गई है। जबकि एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत हासिल किया है। खास बात ये है कि पिछले 2014 विधानसभा चुनाव में नागपुर ज‍िले की 12 सीटों में से 11 पर बीजेपी को जीत मिली थी, लेक‍िन इस बार कांग्रेस ने इस गढ़ में सेंध लगा दी है।

अब तक के नतीजों के अनुसार नागपुर जिले की उत्तरी नागपुर सीट से कांग्रेस के डॉ नितिन राउत, नागपुर पश्चिम सीट से कांग्रेस नगर इकाई के अध्यक्ष विकास ठाकरे, सावनेर सीट से कांग्रेस के मौजूदा विधायक सुनील केदार, पश्चिम नागपुर से कांग्रेस के विकास पांडुरंग ठाकरे, जबकि अपने गढ़ कटोल से एनसीपी के वरिष्ठ नेता अनिल देशमुख ने जीत दर्ज की है। वहीं बीजेपी की तरफ से नागपुर दक्षिण-पश्चिम सीट से सीएम देवेंद्र फडनवीस, नागपुर पूर्वी सीट से बीजेपी के कृष्णा खोपड़े, जिले की हिंगना सीट से बीजेपी के समीर मेघे ने जीत हासिल की है। इसके अलावा नागपुर पूर्वी और नागपुर मध्य सीट से भी बीजेपी उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है।

कुल मिलाकर भले बीजेपी शिवसेना महाराष्ट्र में चुनाव जीत गए हों, लेकिन नागपुर के चुनाव पर‍िणाम कुछ अलग ही संदेश दे रहे हैं। क्योंकि इसी नागपुर में आरएसएस की स्थापना हुई थी और यहीं उसका मुख्यालय भी है। कहा जाता है कि बीजेपी की सभी नीतियों को हरी झंडी या लाल झंडी नागपुर स्थित संघ मुख्यालय से ही मिलता है। इस जिले को हमेशा बीजेपी के लिए सबसे सुरक्षित माना जाता रहा है। यही वजह है कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता न‍ित‍िन गडकरी यहीं से चुनाव लड़ते हैं। यहां तक कि राज्य के वर्तमान सीएम देवेन्द्र फडणवीस भी यहां की एक सीट से चुनाव जीतते रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय