तेलंगाना विधानसभा से BJP विधायक पूरे सत्र के लिए निलंबित, सदन की कार्यवाही बाधित करने का आरोप

सोमवार को बजट सत्र शुरू होते ही बीजेपी विधायकों को निलंबित करना पड़ा, क्योंकि वे वित्त मंत्री हरीश राव के बजट भाषण को बाधित करने की कोशिश कर रहे थे। बीजेपी विधायक राज्यपाल के पारंपरिक संबोधन के बिना बजट सत्र शुरू करने के सरकार के कदम का विरोध कर रहे थे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना विधानसभा के तीनों बीजेपी विधायकों को बजट सत्र के पहले दिन सोमवार को सदन की कार्यवाही बाधित करने के आरोप में सदन से निलंबित कर दिया गया। अध्यक्ष पोचारम श्रीनिवास रेड्डी ने बीजेपी विधायक राजा सिंह, रघुनंदन राव और एटाला राजेंदर को पूरे सत्र के लिए निलंबित करने की घोषणा की।

सोमवार को बजट सत्र शुरू होने के कुछ ही मिनटों के भीतर, बीजेपी विधायकों को निलंबित कर दिया गया क्योंकि वे वित्त मंत्री हरीश राव के बजट भाषण को बाधित करने की कोशिश कर रहे थे। भगवा पार्टी के विधायक राज्यपाल के पारंपरिक संबोधन के बिना बजट सत्र शुरू करने के सरकार के कदम का विरोध कर रहे थे।

काला दुपट्टा ओढ़े और नारेबाजी करते हुए बीजेपी विधायक सदन के वेल में आ गए। उन्होंने बजट भाषण की प्रतियां भी फाड़ दीं। उन्होंने अपनी सीटों पर वापस जाने की अध्यक्ष द्वारा बार-बार अपील पर भी ध्यान नहीं दिया। इसके बाद मंत्री टी. श्रीनिवास यादव ने पूरे सत्र के लिए सदन से उनके निलंबन का प्रस्ताव पेश किया। प्रस्ताव को ध्वनिमत से पारित किया गया और विधायकों को बाहर भेज दिया गया।

निलंबन के विरोध में तीनों विधायक विधानसभा के मुख्य द्वार के सामने धरने पर बैठ गए। उन्होंने आरोप लगाया कि टीआरएस सरकार विपक्ष की आवाज को दबाने के लिए अलोकतांत्रिक तरीकों का सहारा ले रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्यपाल के अभिभाषण को रद्द कर उन्होंने संवैधानिक पद पर आसीन व्यक्ति का अपमान किया है।


सरकार ने अपने इस कदम का बचाव करते हुए कहा कि यह कोई नया सत्र नहीं है बल्कि पिछले सत्र की निरंतरता है। हालांकि, राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने भी सरकार के इस कदम पर आपत्ति जताई है। उन्होंने शनिवार को एक बयान में कहा, "सदन पांच महीने बाद बैठक कर रहा है। सामान्य परिस्थितियों में, जब इतने लंबे अंतराल के बाद सदन बुलाया जाता है, तो यह एक नया सत्र होता है, लेकिन सरकार ने पहले के सत्र को जारी रखने के लिए चुना है।"

राज्यपाल ने सरकार द्वारा उनका अभिभाषण रद्द किए जाने पर नाराजगी व्यक्त की। हालांकि, उन्होंने कहा कि उन्होंने बजट पेश करने के लिए अपनी सिफारिश दी है क्योंकि उनका प्राथमिक उद्देश्य लोगों का कल्याण है। राज्यपाल ने कहा, "हालांकि, मैंने संवैधानिक आचरण का सम्मान करते हुए और राजनीतिक विचारों से परे जाकर और सहकारी संघवाद की भावना को ध्यान में रखते हुए, वित्तीय विधेयक को पेश करने के लिए अपनी सिफारिश से अवगत कराया है। मुझे अपनी सिफारिश देने के लिए अपना समय लेने की स्वतंत्रता है। लेकिन यह अच्छी तरह से जानते हुए कि लोगों का कल्याण शामिल है और लोगों के कल्याण को प्राथमिकता देते हुए, मैंने बिना किसी समय के अपनी सिफारिश दी।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia