चौतरफा आलोचना से बैकफुट पर बीजेपी, गोपाल कांडा से किया किनारा, रविशंकर प्रसाद बोले- समर्थन नहीं लेंगे

हरियाणा में बहुमत से दूर खड़ी बीजेपी ने सरकार बनाने के लिए गोपाल कांडा का समर्थन अब नहीं लेगी। बैकफूट पर खड़ी बीजेपी ने गोपाल कांडा का समर्थन ठुकरा दिया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

हरियाणा में गोपाल कांडा के समर्थन लेने के बाद से बीजेपी की चौतरफा आलोचना हो रही है। इस मुद्दे को लेकर बीजेपी में भी घमासान मचा हुआ है। पार्टी के अंदर और बाहर मचे बवाल के बीच केंद्रीय पर्यवेक्षक रविशंकर प्रसाद ने साफ कर दिया है कि बीजेपी गोपाल कांडा से समर्थन नहीं लेगी। उन्होंने मीडिया से कहा, ‘‘मैं एक बात स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि बीजेपी कांडा का समर्थन नहीं लेने जा रही है।’’ बता दें कि गोपाल कांडा ने शुक्रवार को कहा था कि उन्होंने बीजेपी को बिना शर्त समर्थन देने का फैसला किया है।

इसी बीच चंडीगढ़ में बीजेपी विधायकों की बैठक में मनोहर लाल खट्टर को विधायक दल का नेता चुना गया है। इस बैठक में शामिल होने के बाद अनिल विज ने कहा है कि गोपाल कांडा को सरकार मे शामिल करने का कोई प्रश्न ही नहीं उठता है। बीजेपी सरकार बनाने के लिए उनका समर्थन भी नहीं लेगी। इससे पहले हरियाणा बीजेपी के इनचार्ज अनिल जैन ने कहा था, “हम कुछ ही देर में विधायक दल की बैठक करने वाले हैं जिसके बाद हम तय करेंगे कि किसका समर्थन लेना है।”

बहुमत से दूर बीजेपी को सिरसा से विधायक गोपाल कांडा द्वारा समर्थन की बात सामने आने पार्टी के नेताओं ने विरोध जताया था। मध्य प्रदेश की पूर्व सीएम और बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने गोपाल कांडा को लेकर नाराजगी जताई थी। उन्होंने कहा था, “साफ छवि वाले लोगों का ही समर्थन लिया जाना चाहिए।”

उमा भारती ने कहा था, “गोपाल कांडा वही व्यक्ति है, जिसकी वजह से एक लड़की ने खुदकुशी की थी और उसकी मां ने भी न्याय नहीं मिलने पर आत्महत्या कर ली थी, तो मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है, और यह व्यक्ति जमानत पर बाहर है।” उन्होंने आगे कहा था, “गोपाल कांडा बेकसूर है या अपराधी, यह तो कानून साक्ष्यों के आधार पर तय करेगा, लेकिन उसका चुनाव जीतना उसे अपराधों से बरी नहीं करता।”

वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कांडा के मुद्दे पर बीजेपी पर हमला बोला था। उन्होंने हैशटैग ‘नो टू कांडा’ के साथ ट्वीट किया था, ‘‘पहले कुलदीप सेंगर, उसके बाद नित्यानंद और अब गोपाल कांडा, हर स्वाभिमानी भारतीय महिला को बीजेपी और उसके नेताओं का बहिष्कार करना चाहिए अगर वे महिला सम्मान के बारे में बोलने की हिम्मत करते हैं।”

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया था कि बीजेपी दोमुंही बात करती है। उन्होंने दिल्ली में कहा था, ‘‘मुझे लगता है कि पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के उन बयानों को आपको देखना चाहिए जब गोपाल कांडा हरियाणा में मंत्री थे और उनके खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद हमने उन्हें इस्तीफे के लिये मजबूर किया और उन्हें मंत्री पद से भी हटा दिया।’’

बता दें कि 5 अगस्त 2012 को एयर होस्टेस गीतिका शर्मा ने आत्महत्या कर ली थी और सुसाइड नोट में लिखा था कि वह गोपाल कांडा से परेशान होकर अपनी जान दे रही है। उसने कांडा और उसके सहयोगी आरोपी अरुणा चड्ढा पर भी परेशान करने के आरोप लगाया था।

Published: 26 Oct 2019, 3:53 PM
लोकप्रिय
next