तेलंगाना: अकबर को प्रोटेम स्पीकर बनाने पर बीजेपी का बेवजह बवाल, बीजेपी नेता रह चुकी राज्यपाल ने की है नियुक्ति

तेलंगाना में बीजेपी ने प्रोटेम स्पीकर को लेकर विवाद खड़ा कर दिया है और उसके विधायकों ने प्रोटेम स्पीकर अकबरुद्दीन के सामने शपथ से इनकार कर दिया है। लेकिन अकबरुद्दीन की नियुक्ति बीजेपी नेता रह चुकी राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने की है।

प्रोटेम स्पीकर अकबरुद्दीन ओवैसी (बाएं) और बीजेपी विधायक टी राजा सिंह (दाएं)
प्रोटेम स्पीकर अकबरुद्दीन ओवैसी (बाएं) और बीजेपी विधायक टी राजा सिंह (दाएं)
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना में प्रोटेम स्पीकर को लेकर बवाल मचा हुआ है। बीजेपी विधायक कुछ देर पहले राज्यपाल से मिलने पहुंचे हैं। उनका कहना है कि तेलंगाना की नई चुनी गई कांग्रेस सरकार ने जानबूझकर एआईएमआईएम के विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी को प्रोटेम स्पीकर बनाया है। बीजेपी विधायकों ने अकबरुद्दीन से शपथ लेने से इनकार कर दिया है। लेकिन क्या कांग्रेस सरकार ने चुना है अकबरुद्दीन ओवैसी को प्रोटेम स्पीकर? क्या कहते हैं नियम? और कौन करता है प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति?

तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने शनिवार को अकबरुद्दीन ओवैसी को प्रोटेम स्पीकर की शपथ दिलाई। परंपरा के अनुसान प्रोटेम स्पीकर नई चुनी हुई विधानसभा का अस्थाई स्पीकर या अध्यक्ष होता है और उसका काम नए चुने गए सभी दलों के विधायकों को शपथ दिलाने तक सीमित होता है। आमतौर पर किसी सदन में (विधानसभा या लोकसभा) सबसे वरिष्ठ सदस्य (आयु नहीं बल्कि कार्यकाल के आधार पर) को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया जाता है। राज्यों में प्रोटेम की नियुक्ति राज्यपाल और लोकसभा के लिए नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है।

लेकिन शुक्रवार को जैसे ही सूचना आई कि अकबरुद्दीन ओवैसी तेलंगाना विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर होंगे, इस बात को लेकर विवाद खड़ा हो गया। बीजेपी विधायकों ने ऐलान कर दिया कि वे अकबरुद्दीन ओवैसी के सामने शपथ नहीं लेंगे। बीजेपी ने आरोप लगाया कि अकबरुद्दीन ओवैसी को प्रोटेम स्पीकर बनाकर कांग्रेस ने अपने असली चेहरे को उजागर कर दिया है।

लेकिन वास्तविकता कुछ और है। अकबरुद्दीन ओवैसी को प्रोटेम स्पीकर के पद पर तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने नियुक्त किया है। तमिलिसाई सुंदरराजन बीजेपी की नेता रही हैं। फरवरी 2021 में तेलंगाना की राज्यपाल नियुक्त होने से पहले तक तमिलिसाई बीजेपी की राष्ट्रीय सचिव और तमिलनाडु में बीजेपी की प्रदेश अध्यक्ष थीं। उनके द्वारा अकबरुद्दीन को नियुक्त किए जाने का आदेश नीचे देखा जा सकता है।


कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने इस बारे में एक्स पर लिखा कि "तेलंगाना में जो बीजेपी विधायक स्वाँग रच रहे हैं और जो उनकी पार्टी भ्रम फैला रही है, उसका सच पढ़ लीजिए क्योंकि जो हम हमेशा से कहते थे आख़िर वो सिद्ध हो ही गया। एआईएमआईएम ही बीजेपी की B टीम है अकबरुद्दीन ओवैसी को प्रोटेम स्पीकर बनाने का फ़ैसला तेलंगाना की राज्यपाल का है, अगर कोई भी संशय है तो बीजेपी अपने ही द्वारा नियुक्त राज्यपाल डा. तमिलिसाई सौंदर्यराजन से पूछ सकती है।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;