फादर स्टेन स्वामी का निजी अस्पताल में होगा इलाज, बंबई हाईकोर्ट ने सरकार को भर्ती कराने का दिया आदेश

कोर्ट ने कहा कि स्वामी वर्तमान में सर जेजे अस्पताल में भर्ती हैं, जो बेहतर है, लेकिन वर्तमान में कोरोना मरीजों की आमद के कारण उन पर उचित ध्यान देना संभव नहीं है। अदालत ने कहा कि ऐसे में स्वामी को अंधेरी के होली फैमिली अस्पताल में भर्ती किया जाना चाहिए।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बंबई हाईकोर्ट ने शुक्रवार को महाराष्ट्र सरकार को आदेश दिया कि वह बीमार पादरी और कोरेगांव-भीमा मामले के आरोपी फादर स्टेन स्वामी को उनकी बिगड़ती सेहत को देखते हुए 15 दिनों के लिए तत्काल एक निजी अस्पताल में स्थानांतरित कर दें। विशेष तत्काल सुनवाई में न्यायमूर्ति एस एस शिंदे और न्यायमूर्ति एन आर बोरकर ने कहा कि सर जेजे अस्पताल- जहां स्वामी वर्तमान में भर्ती हैं- चिकित्सकीय कर्मचारियों के अलावा अच्छी तरह से सुसज्जित है, लेकिन वर्तमान में कोरोना महामारी के रोगियों की आमद के कारण उन पर उचित ध्यान देना संभव नहीं है।

अदालत ने निर्देश दिया कि स्टेन स्वामी को अंधेरी के होली फैमिली अस्पताल में स्थानांतरित किया जाना चाहिए। उन्हें शुक्रवार को ही वहां 15 दिनों के लिए भर्ती किए जाने की सलाह दी गई है। आरोपी के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता मिहिर देसाई के एक हलफनामे के अनुसार, कोर्ट ने कहा कि स्वामी अपने सभी चिकित्सा उपचार का खर्च खुद वहन करेंगे।

अधिकारियों को उनकी अधिक उम्र को देखते हुए उनकी सुरक्षा के लिए एक पुलिसकर्मी के अलावा एक परिचारक (अटेंडेंट) उपलब्ध कराने के लिए भी कहा गया था। पीठ का यह निर्देश पादरी द्वारा दायर अस्थायी चिकित्सा जमानत के लिए एक याचिका दायर किए जाने के बाद सामने आया है, जिसमें एक विशेष एनआईए अदालत द्वारा उनकी जमानत याचिका को खारिज करने के पहले के दो आदेशों को चुनौती दी गई है।


पिछले हफ्ते सुनवाई के दौरान स्वामी ने केवल अंतरिम जमानत पर रिहाई का अनुरोध किया और किसी भी अस्पताल में भर्ती होने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद उनके वकील ने उनसे बात करने के लिए समय मांगा। वरिष्ठ अधिवक्ता देसाई के साथ इस केस पर चर्चा करने के बाद, स्वामी ने होली फैमिली अस्पताल में भर्ती होने के लिए सहमति व्यक्त की और तत्काल सुनवाई के लिए हाईकोर्ट का रुख किया।

एनआईए का प्रतिनिधित्व कर रहे अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने दलील दी कि आरोपी को होली फैमिली अस्पताल में भर्ती करने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि सर जेजे अस्पताल में मरीज की देखभाल के लिए सभी सुविधाएं हैं और किसी आरोपी को निजी अस्पताल में भर्ती करना गलत मिसाल कायम कर सकता है।

स्वामी के एक दोस्त को उनके साथ रहने की अनुमति देने की मिहिर देसाई की याचिका का कड़ा विरोध करते हुए सिंह ने कहा कि अस्पताल के कर्मचारी उनकी देखभाल के लिए पर्याप्त हैं। सभी दलीलों और तर्कों पर विचार करने के बाद, अदालत ने फैसला सुनाया कि स्वामी को उनकी पसंद के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया जा सकता है। अदालत ने उनके एक दोस्त फादर फ्रेजर मस्कारेन्हास को अस्पताल के प्रोटोकॉल के अनुसार, अस्पताल में उनसे मिलने की अनुमति भी दी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia