बूस्टर डोज उसी वैक्सीन की लगेगी जिसकी पहली दो खुराके ली गई हैं, केंद्र सरकार ने साफ की स्थिति

फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर और पहले से ही बीमारियों से जूझ रहे बुजुर्गों को बूस्टर डोज़ या एहतियाती तीसरी डोज़ उसी वैक्सीन की लगेगी, जिसकी उन्होंने पहले दो डोज़ ली हैं। केंद्र सरकार ने बुधवार को इस बारे में स्थिति स्पष्ट कर दी।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

प्रधानमंत्री की घोषणा के मुताबिक अगले सप्ताह से फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स और पहले से बीमारियों से जूझ रहे बुजुर्गों को बूस्टर डोज़ देने का अभियान शुरु हो जाएगा। बुधवार को केंद्र सरकार ने स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि यह बूस्टर डोज़ या एहतियाती तीसरी खुराक उसी वैक्सीन की लगाई जाएगी जिसके पहली दो डोज़ ली गई हैं।

देश के कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख और नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वी के पॉल ने कहा कि उन्हें उसी कंपनी की एहतियाती (बूस्टर डोज) वैक्सीन दी जाएगी, जिसके पहले दो डोज उन्हें दिए गए थे। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने कोवैक्सीन को मुख्य रूप से खुराक के रूप में प्राप्त किया है, उन्हें एहतियाती खुराक के तौर पर कोवैक्सीन और जिन लोगों ने कोविशील्ड को प्राथमिक खुराक के रूप में प्राप्त किया है, उन्हें अब कोविशील्ड ही मिलेगी।

एहतियाती खुराक के लिए कोविड वैक्सीन मिक्सिंग पर उन्होंने कहा कि इस पर आगे चर्चा की जाएगी, क्योंकि इस विषय पर अधिक शोध चल रहा है।

डॉ पॉल ने कहा कि राष्ट्रीय पॉजिटिविटी रेट, जो 30 दिसंबर को 1.1 प्रतिशत थी, बढ़कर वर्तमान में 5 प्रतिशत पहुंच गई है, जबकि आर-वैल्यू 2.69 है। देश में संभावित तीसरी कोविड लहर पर, उन्होंने कहा कि भारत कोविड के मामलों में तेजी से वृद्धि का सामना कर रहा है, जो बड़े पैमाने पर नए कोविड वैरिएंट ओमिक्रॉन के कारण है। ओमिक्रॉन विशेष रूप से देश के पश्चिमी भाग और बड़े शहरों में पाया जा रहा है।

इस बीच, आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि ओमिक्रॉन देश के शहरों में प्रमुख फैलने वाला वैरिएंट बनकर उभर रहा है और इस प्रसार को कम करने के लिए सामूहिक समारोहों से बचना चाहिए।।


स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि भारत में पिछले 8 दिनों में मामलों में 6.3 गुना से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि पॉजिटिविटी के मामले में 29 दिसंबर को 0.79 प्रतिशत से 5 जनवरी को 5.03 प्रतिशत की तेज वृद्धि देखी गई है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, झारखंड और गुजरात चिंता वाले राज्य हैं, जहां मामलों में भारी वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि देश के 28 जिले 10 प्रतिशत से अधिक साप्ताहिक पॉजिटिविटी की रिपोर्ट कर रहे हैं।

राजस्थान में ओमिक्रॉन से संबंधित मौत पर अग्रवाल ने कहा कि यह तकनीकी रूप से ओमिक्रॉन से संबंधित मौत है। उन्होंने कहा कि पीड़ित एक बुजुर्ग व्यक्ति था, जिसे कथित तौर पर मधुमेह जैसी बीमारी थी

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia