यूपी चुनाव से पहले अभूतपूर्व पलायन संकट से घिरी BSP, मायावती के सामने पार्टी संभालने की चुनौती

एसपी में जाने की तैयारी कर रहे एक बीएसपी विधायक ने कहा कि पार्टी पर अब ब्राह्मणों का राज है। मैंने पार्टी अध्यक्ष से मिलने की कई कोशिशें कीं, लेकिन मौका नहीं मिला। एक विधायक अपनी पार्टी के अध्यक्ष से नहीं मिल सकता, तो पार्टी से क्या उम्मीद की जा सकती है?

फाइल फोटोः IANS
फाइल फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) को पार्टी से अभूतपूर्व पलायन का सामना करना पड़ रहा है। पिछले साल सात विधायकों के विद्रोह के बाद, बीएसपी से नेताओं के निकलने का सिलसिला अब और तेज हो गया है। पार्टी के कई नेता समाजवादी पार्टी के संपर्क में हैं, जो कि मायावती के लिए चिंताजनक है। इस बीच समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा है कि समाजवादी पार्टी सत्तारूढ़ बीजेपी के एकमात्र विकल्प के रूप में उभरी है।

बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आर. एस. कुशवाहा ने सोमवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से लखनऊ में पार्टी मुख्यालय में मुलाकात की। हालांकि, इस मुलाकात को शिष्टाचार भेंट करार दिया गया है, लेकिन कहा जा रहा है कि कुशवाहा अब किसी भी दिन एसपी में शामिल हो सकते हैं। बीएसपी के एक नेता ने कहा, "किसी भी हाल में अगर वह एसपी में शामिल नहीं भी होते हैं तो भी इस बैठक के बाद उन्हें बीएसपी से निकाल दिया जाएगा।"


इससे पहले बीएसपी से निष्कासित दो विधायक लालजी वर्मा और राम अचल राजभर ने भी अखिलेश यादव से कथित शिष्टाचार भेंट के तौर पर मुलाकात की थी। बीएसपी के एक अन्य वरिष्ठ विधायक और उत्तर प्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर ने सक्रिय राजनीति से संन्यास की घोषणा की थी, जबकि उनके बेटे कमलकांत राजभर एसपी में शामिल हो गए हैं।

बीएसपी के भीतर असंतोष तेजी से बढ़ रहा है, क्योंकि अधिक से अधिक नेता पार्टी छोड़ रहे हैं।
दिलचस्प बात यह है कि पार्टी छोड़ने वाले ज्यादातर नेता दलित और ओबीसी समुदायों से हैं।
एसपी में शामिल होने की तैयारी कर रहे बीएसपी के एक विधायक ने कहा बीएसपी पर अब ब्राह्मणों का शासन है। मैंने लखनऊ में पार्टी अध्यक्ष से मिलने की कई कोशिशें कीं, लेकिन मौका नहीं दिया गया। एक विधायक अपनी पार्टी के अध्यक्ष से नहीं मिल सकता, तो पार्टी से क्या उम्मीद की जा सकती है?"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia