Budget 2022 : बजट से गांव-गरीब किसान को नहीं बल्कि कॉरपोरेट मित्रों को होगा लाभ: भारतीय किसान यूनियन

भारतीय किसान यूनियन ने कहा कि, बजट खेती के लिए नकारात्मक है। बजट में केवल अमृत महोत्सव, गतिशक्ति, ई विधा जैसे शव्दों का मायाजाल है। कृषि में पूंजी निवेश के माहौल के लिए कोई योजना नहीं है और देश की वित्त मंत्री को बजट के लिए शून्य नंबर देते हैं।

फोटोः किसान एकता मोर्चा
फोटोः किसान एकता मोर्चा
user

नवजीवन डेस्क

बजट से गांव-गरीब किसान को नहीं बल्कि कॉरपोरेट मित्रों को होगा लाभ: भारतीय किसान यूनियन

केंद्रीय वित्त निर्मला सीतारमण ने देश का आम बजट पेश किया और सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़े कई अहम ऐलान किए हैं। हालांकि किसान संगठन नाखुश नजर आ रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन ने कहा कि, बजट खेती के लिए नकारात्मक है। बजट में केवल अमृत महोत्सव, गतिशक्ति, ई विधा जैसे शव्दों का मायाजाल है। कृषि में पूंजी निवेश के माहौल के लिए कोई योजना नहीं है और देश की वित्त मंत्री को बजट के लिए शून्य नंबर देते हैं। दरअसल बजट में सरकार ने कृषि सेक्टर में ड्रोन के इस्तेमाल को बढ़ावा देने का ऐलान किया है। वहीं वित्त मंत्री ने धान और गेहूं की खरीद के लक्ष्य को बढ़ाने का फैसला किया है।

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि, किसानों के लिए बजट रूटीन प्रकिया का हिस्सा है। इससे किसानों का कल्याण संभव नहीं है। वहीं सरकार किसानों से बदले की भावना से कार्य कर रही है। तिलहन के उत्पादन को आप इसलिए बढ़ाना चाहते हैं कि ताड़ की खेती आप कॉरपोरेट को सौंपना चाहते हैं। यह खेती भूमिगत जल व पर्यायवर्णीय ²ष्टि से उचित नही है।

देश की सारी संपत्तियों को बेचकर बीजेपी बनी 5,000 करोड़ रुपए की कंपनी, जल्द ही LIC के बिकने की भी खबर मिलेगी: बजट पर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन


केंद्रीय बजट में विकास की गति को तेज करने के लिए कई कदम उठाए गए हैं, बुनियादी ढांचे के निर्माण का फैसला भी स्वागत योग्य: नीतीश कुमार

5जी स्पेक्ट्रम पर ट्राई की सिफारिश मार्च तक: दूरसंचार मंत्री


वाम दलों ने Budget2022 को लेकर सरकार पर निशाना साधा, कहा- यह "जन विरोधी" और "आपदाओं और धोखे का बैग" है

केंद्रीय बजट पर बोले झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन- इसमें राज्यों को कर्ज के बोझ तले दबाने की तैयारी

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने केंद्रीय बजट को निराश करने वाला बताया है। उन्होंने कहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट के जरिए सिर्फ केंद्र सरकार के मन की बात कही है और इसमें देश के जनमानस की भावनाओं का कोई ख्याल नहीं रखा गया है।

रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री सोरेन ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा राज्यों को ज्यादा सहायता राशि देने की घोषणा की सच्चाई यह है कि इससे राज्यों को कर्ज के बोझ तले दबाने की तैयारी है। केंद्र सरकार संघीय ढांचा को भी तोड़ने पर आमादा है। उन्होंने आरोप लगाया किएलआईसी से लेकर एयरपोर्ट तक को बेचकर भाजपा आज पांच हजार करोड़ रुपये की कंपनी बन गयी है।

इधर झारखंड सरकार के वित्त एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री रामेश्वर उरांव ने केंद्रीय बजट को चुनावी घोषणाओं का पुलिंदा करार दिया है। उन्होंने कहा कि आम आदमी और किसान फिर निराश हुए हैं। बजट काल्पनिक साहित्य जैसा है। पहले दो करोड़ नौकरियों की बात थी, अब 60 लाख की बात की गयी है। हकीकत है कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण 2020 में 6.4 करोड़ लोग अत्यंत गरीबी में ढकेल दिये गये। बहुत शोर था कि कोरोना के बाद ऐसा बजट होगा जिससे देश का काया कल्प हो जाएगा, पर अब आम लोग और गरीब होंगे। महंगाई से त्रस्त जनता को राहत कैसे मिले, किसानों की आय दोगुनी कैसे होगी, सरकार ने कोई दिलचस्पी इसमें नहीं दिखाई है। सच्चाई यह है कि सालाना प्रति व्यक्ति वास्तविक आय में गिरावट आयी है


ये हैरान करने वाला बजट, इसमें देश के लोगों का मजाक उड़ाया गया: पी चिदंबरम

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम बोले- पूंजीवादी है ये बजट, गरीबों, मध्य वर्ग समेत अन्य वर्गों के लिए सरकार ने कुछ नहीं दिया

कांग्रेस पार्टी ने मोदी सरकार द्वारा पेश किए गए बजट को पूंजीवादी बताया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने प्रेस से बात करते हुए कहा कि यह बजट पूंजीवादी है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार और वित्त मंत्री के सामने के सामने 7 से 8 महत्वपूर्ण पहलू थे। लेकिन इन पहलुओं पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। देश की अर्थव्यवस्था 2019-2020 के स्तर पर आज भी सरकार के मुताबिक है। ऐसे में दो साल तरक्की के खत्म हो गए।

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस से बात करते हुए कहा कि सरकार ने बताया कि करोड़ों नौकरियां चली गईं। 60 लाख छोटे उद्योग खत्म हो गए। 84 फीसदी घरों की आय टूट गई, प्रति व्यक्ति आय 1 लाख 8 हजार से कम होकर 1 लाख 7 हजार हो गई। प्रति व्यक्ति खर्च 62 हजार से कम होकर 59 हजार रह गया। उन्होंने कहा कि 4 करोड़ 60 लाख लोग गरीबी रेखा के नीचे धकेल दिए गए। पढ़ने वाले बच्चों का, खास तौर पर ग्रामीण इलाकों में बच्चों का भविष्य अंधकार में चला गया। उन्होंने कहा कि गरीब की मदद के लिए एक शब्द भी बजट में नहीं है। रोजगार कैसे बढ़ेगा इसके लिए एक शब्द बजट में नहीं है। महंगाई पर नियंत्रण में एक शब्द बजट में नहीं है। गरीब तक पैसे पहुंचाने के लिए एक शब्द बजट में नहीं है। उन्होंने कहा कि बजट में किसी वर्ग को टैक्स में छूट देने के लिए एक शब्द नहीं है। लोक कल्याण को जैसे रद्दी की टोकरी में फेंक दिया गया है।


बस पुराने हो चुके जुमले और सब्सिडी पर प्रहार, यही है मोदी सरकार के बजट का सार: प्रियंका गांधी

हमने टैक्स नहीं बढ़ाया, एक भी पैसा अतिरिक्त टैक्स के द्वारा कमाने की कोशिश नहीं की: निर्मला सीतारमण

इनकम टैक्स से संबंधित सवाल पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमने टैक्स नहीं बढ़ाया। एक भी पैसा अतिरिक्त टैक्स के द्वारा कमाने की कोशिश नहीं की। पिछली बार प्रधानमंत्री का आदेश था कि घाटा कितना भी हो, महामारी में जनता पर टैक्स का बोझ नहीं डालना। इस बार भी वही निर्देश थे।


आम बजट से नाखुश राज्यसभा सांसद नासिर हुसैन बोले, 'आम जनता को बजट से क्या मिला'?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में आम बजट पेश किया, जिसपर विपक्ष नारजगी व्यक्त कर रहा है। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का चौथा बजट है। कांग्रेस राज्य सभा सांसद सईद नासिर हुसैन ने बजट पर नारजगी व्यक्त की है और सवाल भी पूछे हैं।

दरअसल वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया कि यह अगले 25 साल की बुनियाद का बजट है, आधुनिक बुनियादी ढांचे पर निवेश की योजना है। इस बजट में आम निवेश को बढ़ावा मिलेगा, वहीं अगले 3 सालों के दौरान बेहतर दक्षता वाली 400 नई पीढ़ी की वंदेभारत ट्रेनें लाई जाएंगी। वहीं तकनीक से जुड़े विकास पर सरकार का ध्यान है, हम चुनौती उठाने की मजबूत स्थिति में हैं।

सरकार को देखते हुए नासिर हुसैन ने आईएएनएस को बताया कि, आज के बजट में कोरोना महामारी से जूझते अलग-अलग सेक्टरों के लोगों कोई राहत नहीं मिली है। महामारी से जूझ रहे लोगों की दिक्कतों को अभी दूर कीजिए, उनको मदद करने का प्रयास कीजिए। 25 साल बाद लोगों की चिंता है। 5 करोड़ लोग गरीबी के रेखा के ऊपर वाले गरीबी रेखा के नीचे चले गए हैं।

सरकार को कोरोना काल के बाद एक ऐसा बजट पेश करना चाहिए था, जहां मध्यम वर्ग, छोटे दुकानदार, छोटे व्यवसाय की मदद के लिए संसाधन और पैसा उपलब्ध कराती: सचिन पायलट


बजट में बेरोज़गारी, कृषि क्षेत्र के बारे में कुछ नहीं है: कमलनाथ

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा कि बजट में बेरोज़गारी, कृषि क्षेत्र के बारे में कुछ नहीं है। बजट में है क्या? आम नागरिक को बजट में कौनसी राहत दी गई है। बड़े-बड़े उद्योगपतियों को इससे लाभ होगा।

बजट का कुछ न कुछ फायदा होता है लेकिन जितना दिखाया जाता है उतना फायदा नहीं होता: राकेश टिकैत 

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा, “बजट का कुछ न कुछ फायदा होता है लेकिन जितना दिखाया जाता है उतना फायदा नहीं होता, दिखाते ज़्यादा हैं और मिलता कम है। हमने कहा MSP गारंटी क़ानून बना दें, इस क़ानून से कम क़ीमत में फसलों की ख़रीद बंद होगी।”


बजट में आम लोगों के लिए कुछ भी नहीं है: कांग्रेस नेता आनंद शर्मा

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा, “उम्मीद थी कि बजट गरीबों और आम लोगों के लिए राहत लाएगा, और बढ़ती मुद्रास्फीति से प्रभावित करदाताओं को पूरा नहीं किया गया है। बजट में बढ़ती असमानता को संबोधित नहीं किया गया है। छोटे उद्योगों को भी इस बजट से कोई राहत नहीं।”

ये बहुत ही प्रगतिशील बजट है: नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा, “ये बहुत ही प्रगतिशील बजट है, ये पिछले साल के बजट की निरंतरता में है। इस बजट से भारत की लंबे समय तक ग्रोथ होगी, इसकी खासियत ये है कि ये पूंजीगत व्यय पर फोकस करता है। पिछले साल 5.54 लाख करोड़ दिए गए थे इसे बढ़ाकर 7.5 लाख करोड़ कर दिया गया है।”


राहुल गांधी ने बजट को बताया निराशजनक  

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आम बजट को निराशजनक बताया है। उन्होंने कहा कि इस बजट में नौकरीपेशा, मध्य वर्ग, गरीबों, युवाओं, किसानों और एमएसएमई के लिए कुछ भी नहीं है।

शेयर बाजार में उछाल, सेंसेक्स 879.62 अंक बढ़कर इस समय 58,893.79 पर 


बजट में 2022-23 के लिए 7.5 लाख करोड़ रुपए के पूंजीगत व्यय का प्रावधान: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि केंद्रीय बजट में 2022-23 के लिए 7.5 लाख करोड़ रुपए के पूंजीगत व्यय का प्रावधान किया गया है। 2022-23 मे यह व्यय जीडीपी का 2.9 प्रतिशत होगा।

कॉरपोरेट सरचार्ज 12% से घटाकर 7% किया जाएगा: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण


क्रिप्टो करेंसी को लेकर बजट में सरकार ने किया बड़ा ऐलान

क्रिप्टो करेंसी को लेकर सरकार ने बड़ा ऐलान किया है। वित्त मंत्री ने कहा कि क्रिप्टो करेंसी पर कमाई पर 30 फीसदी टैक्स देना होगा। इसके अलावा अगर घाटा होता तब भी आपको टैक्स देना होगा।

कॉरपोरेट टैक्स घटाकर 18 प्रतिशत से 15 प्रतिशत किया गया

कॉरपोरेट टैक्स घटाकर 18 प्रतिशत से 15 प्रतिशत किया गया है। इसके साथ ही दिव्याग के माता-पिता को टैक्स में छूट की घोषणा की गई है।


नए टैक्स रिफॉर्म लाने की योजना है: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि नए टैक्स रिफॉर्म लाने की योजना है। उन्होंने कहा कि अगले 2 एसेसमेंट साल तक अपडेटेड आईटीआर संभव होगी।

राज्यों को 50 साल के लिए बगैर ब्याज कर्ज दिया जाएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में ऐलान किया कि राज्यों को 50 साल के लिए बगैर ब्याज कर्ज दिया जाएगा।


बजट में किसानों के लिए ये घोषणाएं हुईं

  • किसानों के खातों में 2.37 लाख करोड़ रुपये की एमएसपी सीधे ट्रांसफर की जाएगी।
    निर्मला सीतारमण ने कहा कि आने वाले दिनों में कैमिकल फ्री नेचुरल फार्मिंग को प्रमोट किया जाएगा। पहले चरण में गंगा किनारे की किसानों की जमीन 5 किलोमीटर के कोरिडोर को पहले चरण में चुना जाएगा।

  • ऑयल सीड का आयात घटाने की दिशा में काम करते हुए घरेलू प्रोडक्शन को बढ़ावा दिया जाएगा।

  • वित्त मंत्री ने किसानों तक तकनीक पहुंचाने की दिशा में भी काम करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पीपीपी मॉडल के तहत स्कीम लाई जाएंगी, जिससे किसानों तक डिजिटल और हाईटेक तकनीक पहुंचाई जाएगी।

  • यहां तक कि किसानों की खेती के असेसमेंट के लिए ड्रोन टेक्नोलॉजी की मदद ली जाएगी। साथ ही ड्रोन के जरिए

  • न्यूट्रिएंट और कीटनाशक के छिड़काव को भी बढ़ावा दिया जाएगा।

  • निर्मला सीतारमण ने कहा कि राज्यों को एग्रिकल्चर यूनिवर्सिटीज को रिवाइव करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

  • साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि ऑर्गेनिग फार्मिंग को बढ़ावा दिया जाएगा।

  • नाबार्ड के जरिए एग्रिकल्चर से जुड़े स्टार्टअप और रूरल एंटरप्राइज को फाइनेंस किया जाएगा, जो खेती से जुड़े होंगे।

  • किसानों को फल और सब्जियों की सही वैराएटी इस्तेमाल करने के लिए सरकार कंप्रेहेंसिव पैकेज देगी, जिसमें राज्यों की भी भागीदारी होगी।

ब्लॉकचेन और अन्य तकनीकों का उपयोग करके जारी किया जाएगा डिजिटल रुपया: वित्त मंत्री


रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा दिया जाएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा दिया जाएगा। कुल खरीदी बजट में से 68 फीसदी को घरेलू बाजार से खरीदी पर खर्च किया जाएगा। इससे रक्षा उपकरणों के आयात पर निर्भता कम होगी। पिछले वित्त वर्ष से यह 58 फीसदी ज्यादा है।

भुगतान में देरी को कम करने के लिए एक ऑनलाइन बिल प्रणाली शुरू की जाएगी: वित्त मंत्री


कृषि क्षेत्र में किसान ड्रोन के उपयोग को बढ़ावा दिया जाएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि फसल का मूल्यांकन करने, भूमि अभिलेखों के डिजिटलीकरण, कीटनाशकों और पोषक तत्वों के छिड़काव के लिए किसान ड्रोन के उपयोग को बढ़ावा दिया जाएगा।

2022-23 में 60 किलोमीटर लंबे 8 रोपवे प्रोजेक्ट के लिए कांट्रैक्ट दिए जाएंगे: वित्त मंत्री


नागरिकों की सुविधा बढ़ाने के लिए 2022-23 में ई-पासपोर्ट जारी किया जाएगा: वित्त मंत्री 

पीपीपी मॉडल के जरिए रेलवे के गुड्स सेक्टर का विस्तार होगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि पीपीपी मॉडल के जरिए रेलवे के गुड्स सेक्टर का विस्तार होगा, 750 नई ई-लैब्स बनाई जाएंगी और इनके जरिए टेस्टिंग पर जोर होगा, इस साल से चिप लगे पासपोर्ट आ जाएंगे।


बैटरी अदला-बदली नीति लाई जाएगी: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि बड़े पैमाने पर ई-वाहन के चार्जिंग स्टेशन नहीं मिल पाते, क्योंकि जगह की कमी होती है। इसलिए बैटरी अदला-बदली नीति लाई जाएगी।

आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना (ईसीएलजीएस) को मार्च 2023 तक बढ़ाया जाएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना (ईसीएलजीएस) को मार्च 2023 तक बढ़ाया जाएगा, गारंटी कवर को 50,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर कुल 5 लाख करोड़ रुपये किया जाएगा।


नागरिकों की सुविधा बढ़ाने के लिए 2022-23 में ई-पासपोर्ट जारी किया जाएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि वर्ष 2023 को मोटा अनाज वर्ष घोषित किया गया। रबी 2021-22 में 163 लाख किसानों से 1208 मीट्रिक टन गेहूं और धान खरीदा जाएगा।

'बजट 2021 ने सार्वजनिक निवेश के प्रावधान में तेज वृद्धि प्रदान की थी, निवेश के गुणक प्रभाव से आर्थिक सुधार का लाभ जारी'

आम बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि नेशनल बैंक फॉर इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट, नेशनल एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी ने गतिविधियां शुरू कर दी हैं, बजट 2021 ने सार्वजनिक निवेश के प्रावधान में तेज वृद्धि प्रदान की थी, निवेश के गुणक प्रभाव से आर्थिक सुधार का लाभ जारी है ।


पीएम ई विद्या के 'वन क्लास, वन टीवी चैनल' कार्यक्रम को 12 से 200 टीवी चैनलों तक बढ़ाया जाएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि पीएम ई विद्या के 'वन क्लास, वन टीवी चैनल' कार्यक्रम को 12 से 200 टीवी चैनलों तक बढ़ाया जाएगा। यह सभी राज्यों को कक्षा 1 से 12 तक क्षेत्रीय भाषाओं में सप्लीमेंट्री शिक्षा प्रदान करने में सक्षम बनाएगा।

2022-23 के बीच नेशनल हाईवे की लंबाई 25000 किमी तक बढ़ाई जाएगी: वित्त मंत्री

केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि 2022-23 के बीच नेशनल हाईवे की लंबाई 25000 किमी तक बढ़ाई जाएगी।


डिजिटल विश्वविद्यालय की स्थापना होगी: वित्त मंत्री

निर्मला सीतारमण ने कहा कि कोरोना काल में पढ़ाई का काफी नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि एक क्लास एक टीवी चैनल को 12 से बढ़ाकर 200 टीवी चैनल किया जाएगा। इसके अलावा डिजिटल विश्वविद्यालय की स्थापना होगी।

अगले 3 वर्षों के दौरान बेहतर दक्षता वाली 400 नई जेनरेशन की वंदे भारत ट्रेनें लाई जाएंगी: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि अगले 3 वर्षों के दौरान बेहतर दक्षता वाली 400 नई जेनरेशन की वंदे भारत ट्रेनें लाई जाएंगी। अगले 3 वर्षों में 100 PM गति शक्ति कार्गो टर्मिनल विकसित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि रेलवे छोटे किसानों और छोटे व मध्यम उद्यमों के लिए नए प्रोडक्ट और कुशल लॉजिस्टिक सर्विस तैयार करेगा।


पूरे देश में रासायनिक मुक्त प्राकृतिक खेती को बढ़ावा दिया जाएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि गंगा नदी के किनारे 5 किमी चौड़े गलियारों में किसानों की जमीन पर फोकस के साथ पूरे देश में रासायनिक मुक्त प्राकृतिक खेती को बढ़ावा दिया जाएगा।

बजट से शेयर बजार में बड़ी उछाल

सेंसेक्स अभी 850 अंक से ज्यादा की बढ़त लिए हुए है। वहीं निफ्टी में भी 200 अंक से ज्यादा उछाल के साथ कारोबार हो रहा है। सेंसेक्स की शुरुआत ही 631 अंकों की बढ़त के साथ हुई। इससे पहले मिनट में ही निवेशकों ने 2.5 लाख करोड़ रुपए की कमाई कर ली।


अगले 3 वर्षों के दौरान बेहतर दक्षता वाली 400 नई जेनरेशन की वंदे भारत ट्रेनें लाई जाएंगी: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि अगले 3 वर्षों के दौरान बेहतर दक्षता वाली 400 नई जेनरेशन की वंदे भारत ट्रेनें लाई जाएंगी। अगले 3 वर्षों में 100 PM गति शक्ति कार्गो टर्मिनल विकसित किए जाएंगे।

केंद्रीय बजट अमृत काल के अगले 25 वर्षों का ब्लू प्रिंट है: वित्त मंत्री


आत्मनिर्भर भारत से 16 लाख युवाओं को नौकरियां दी जाएंगी: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि बजट से किसानों, युवाओं को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत से 16 लाख युवाओं को नौकरियां दी जाएंगी।

एयर इंडिया का विनिवेश पूरा हो गया है, एलआईसी का आईपीओ जल्द आएगा: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण पढ़ते हुए कहा कि एयर इंडिया का विनिवेश पूरा हो गया है और एलआईसी का आईपीओ जल्द ही आएगा।


इस बजट से अगले 25 साल की बुनियाद: वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि बजट से देश को अगले 25 साल की बुनियाद मिलेगी। अगले वित्त वर्ष में आर्थिक ग्रोथ 9.2 फीसदी रहने की उम्मीद जताई गई है। वित्त मंत्री ने कहा कि मौजूदा वर्ष में भारत की आर्थिक ग्रोथ 9.2 फीसदी रहने का अनुमान है, यह बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे अधिक है।

देश की विकास दर 9.27% रहने का अनुमान: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि मौजूदा वर्ष में भारत की आर्थिक ग्रोथ 9.2% रहने का अनुमान है, ये बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे ज़्यादा है।


देश का आम बजट पेश कर रही हैं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

बजट सत्र का आज दूसरा दिन है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण देश का आम बजट बेश कर रही हैं। कोरोना काल के दौरान इस बजट से देश की जनता को काफी उम्मीदे हैं।

आर्थिक व्यवस्था ठीक हो, लोगों की माली हालत को दुरुस्त करने, युवाओं को रोज़गार दिलाने के लिए सरकार प्रबंध करे: कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “आर्थिक व्यवस्था ठीक हो, लोगों की माली हालत को दुरुस्त करने, युवाओं को रोज़गार दिलाने के लिए सरकार प्रबंध करे। सरकार को कॉर्पोरेट सेक्टर से इतर आम जनता के बारे में सोचना चाहिए। वर्ल्ड बैंक के मुताबिक हमारी आर्थिक वृद्धि घट रही है।”


कैबिनेट की बैठक में बजट को मिली मंजूरी, थोड़ी देर में आम बजट पेश करेंगी वित्त मंत्री

संसद भवन में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक खत्म हो गई है। कैबिनेट की बैठक में बजट को औपचारिक मंजूरी दी गई। इसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में पहुंचेंगी। सुबह 11 बजे देश का आम बजट पेश करेंगी।

बजट को मंजूरी देने के लिए केंद्रीय कैबिनेट की बैठक जारी, थोड़ी देर में पेश होगा देश का आम बजट

बजट को मंजूरी देने के लिए केंद्रीय कैबिनेट की बैठक जारी है। मंजूरी मिलते ही वित्त मंत्री संसद में पहुंचेगी और देश का आम बजट पेश करेंगी।


कैबिनेट बैठक में शामिल होने के लिए पीएम मोदी संसद भवन पहुंचे 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित समेत कई केंद्रीय मंत्री कैबिनेट बैठक में शामिल होने संसद भवन पहुंचे 


राष्ट्रपति से मिलकर संसद भवन पहुंचीं निर्मला सीतारमण

संसद भवन लगाई गईं बजट की कॉपियां

एक घंटे बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण देश का आम बजट पेश करेंगी। इससे पहले बजट पेपर संसद भवन पहुंच चुके हैं।


बजट से पहले शेयर बाजार में तेजी, सेंसेक्स में 582.85 अंकों की उछाल     

बजट से पहले शेयर बाजार उछाल के साथ खुले हैं। सेंसेक्स 582 अंक उठकर 58,597.02 पर पहुंच गया है। वहीं निफ्टी 156 अंक उठकर 17,496 पर पहुंच गया है।

दिल्ली: राष्ट्रपति भवन पहुंचीं केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 


दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण वित्त मंत्रालय से राष्ट्रपति भवन के लिए निकलीं

इस खास रूट पर बजट में बुलेट ट्रेन का ऐलान हो सकता है

अयोध्या से होकर दिल्ली और वाराणसी को जोड़ने वाली बुलेट ट्रेन का ऐलान आज के बजट में हो सकता है।


दिल्ली: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण वित्त मंत्रालय पहुंचीं

दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपने आवास से रवाना हुईं 


दिल्ली: वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी और भागवत कराड वित्त मंत्रालय पहुंचे

बजट में यह कोशिश होगी कि सभी के लिए कुछ ना कुछ हो: केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी

बजट पेश होने से पहले केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने कहा है कि बजट में यह कोशिश होगी कि सभी के लिए कुछ ना कुछ हो। उन्होंने कहा कि थोड़ा धीरज रखिए, बजट से सभी लोग बेहद खुश होंगे।

उन्होंने कहा, “देश के पीएम और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के नेतृत्व में देश के सभी सेक्टर की भावनाओं को देखते हुए एक समावेशी बजट आने वाला है जिससे निश्चत तौर से देश के लोगों का कल्याण होगा और देश भी आगे बढ़ेगा।”


दिल्ली: वित्त राज्य मंत्री भागवत कराड ने आज संसद में आम बजट पेश करने से पहले अपने आवास पर पूजा-अर्चना की    

इस बजट से जनता को है काफी उम्मीदें

कोरोना महामारी में देश का बुरा हाल है। हर मोर्चे पर बड़ी चुनौतियां हैं। यह बजट ऐसे समय आ रहा है, जब देश महामारी की तीसरी लहर से जूझ रहा है। ऐसे में आम से लेकर खास तक इस बजट से काफी उम्मीदे हैं। बढ़ती महंगाई, एग्री सेक्टर और किसानों की परेशानियां, आत्मनिर्भर भारत, देश की सीमाओं पर बढ़ते खतरों के बीच डिफेंस पर ध्यान, टैक्स नियमों और डिडक्शन को लेकर बदलाव समेत कई अहम मुद्दे हैं, जिनके ऊपर इस बजट में खास फोकस रहने की उम्मीद है।


देश का आज आम बजट होगा पेश, कोरोना काल में जनता को कितनी राहत देगी मोदी सरकार?

बजट सत्र का आज दूसरा दिन है। केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण सुबह 11 बजे देश का आम बजट पेश करेंगी। बजट से आम आदमी को राहत की उम्मीदे हैं। इससे पहले सोमवार को सीतारमण ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 को राज्यसभा के पटल पर रखा था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 01 Feb 2022, 7:48 AM