दिल्ली में निगम-सरकार की मिलीभगत से सील इमारतों में चल रहे कई कारोबार, कांग्रेस ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार ने सवाल पूछते हुए कहा कि दिल्ली में पानी और बिजली तो दिल्ली सरकार उपलब्ध कराती है, तो कैसे एक बंद दुकान और मॉल को पानी और बिजली की सुविधा मिल रही है? यह सुविधाऐं सिर्फ पैसे के लेन-देन के द्वारा ही संभव हैं।

फोटोः @INCDelhi
फोटोः @INCDelhi
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने बीजेपी शासित नगर निगम और दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर निशाना साधते हुए गंभीर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार ने आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी की शह पर व्यवसायिक क्षेत्र करोल बाग में एक मॉल सरकारी कागजों में सील होने के बाद भी चल रहा है।

अनिल कुमार ने बताया कि 2012 में नियमों के उल्लंघन के चलते करोल बाग में एक मॉल को सील किया गया था, लेकिन बीजेपी और 'आप' पार्टी की मिलीभगत से आज उस मॉल में व्यवसायिक गतिविधियां बेखौफ चल रही हैं। उन्होंने मांग की कि बिना अनुमति के सरकारी सीलिंग को अवैध रुप से तोड़ने वालों के साथ अवमानना की अपराधिक कार्रवाई होनी चाहिए और इसमें शामिल निगम और दिल्ली सरकार के अधिकारियों की भी जांच होनी चाहिए।


अनिल कुमार के मुताबिक, दिल्ली में सिर्फ करोल बाग स्थित मॉल ही नहीं, कितनी ही ऐसी सम्पतियां हैं जो अधिकारिक तौर पर कागजों में बंद होने के बावजूद उनमें व्यवसायिक गतिविधियां भ्रष्टाचार के कारण धड़ल्ले से चल रही हैं, जिसमें बीजेपी और आम आदमी पार्टी के नेताओं की पूरी मिलीभगत है।

दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष ने सवाल पूछते हुए कहा कि दिल्ली में पानी और बिजली तो दिल्ली सरकार उपलब्ध कराती है, तो कैसे एक बंद दुकान और मॉल को पानी और बिजली की सुविधा मिल रही है? यह सुविधाऐं सिर्फ पैसे के लेन-देन के द्वारा ही संभव हैं। इसी से साफ है कि सील इमारतों में व्यवसायिक गतिविधियां चलने में नगर निगम और दिल्ली सरकार की पूरी मिलीभगत है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia