ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर गांजा बेचने के मुद्दे को कैट ने उठाया, पीएम मोदी को लिखा पत्र, SIT गठित करने की मांग

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा है कि यह आश्चर्यजनक है कि अमेजॉन जैसी वैश्विक दिग्गज, जिसने अपने तकनीकी मिथक के बल पर भारतीय बाजार में प्रवेश किया वो अब इस मामले से अपना पल्ला झाड़ने की कोशिश कर रहा है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ज्ञापन भेज ऑनलाइन प्लेटफॉर्म द्वारा भारत में मादक पदार्थों की तस्करी की जांच के लिए एक एसआईटी गठित करने की मांग की है ताकि ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके।

कैट के मुताबिक, मध्य प्रदेश पुलिस के हालिया निष्कर्षों से यह स्पष्ट है कि मार्केटप्लेस प्लेटफॉर्म पर संचालित किए जा रहे ड्रग रैकेट अमेजन की जानकारी और सक्रिय भागीदारी है, लेकिन अमेजॉन इस तरह के नशीले पदार्थों को अपने गोदामों में संग्रहीत करके पूरी तरह से शामिल है।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा है कि यह आश्चर्यजनक है कि अमेजॉन जैसी वैश्विक दिग्गज, जिसने अपने तकनीकी मिथक के बल पर भारतीय बाजार में प्रवेश किया वो अब इस मामले से अपना पल्ला झाड़ने की कोशिश कर रहा है। जबकि अमेजॉन अपने मार्केटप्लेस ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के माध्यम से गांजा के व्यापार की सुविधा प्रदान कर रहा है।

कैट ने कहा है कि, जब भी सरकार अमेजॉन के खिलाफ कोई कार्रवाई करने की योजना बनाती है, तो उनके पास एक स्टीरियो टाइप उत्तर होता है कि कंपनी आंतरिक जांच कर रही है। क्या अमेजॉन सरकार से बड़ा है?


पिछले दिनों मध्य प्रदेश की भिंड पुलिस ने कड़ी पत्ते की आड़ में अमेजॉन पर गांजे की तस्करी का भंडाफोड़ किया था। पुलिस ने 20 किलो गांजा सहित अमेजॉन की पैकिंग के डिब्बे, रैपर, बारकोड टैगिंग आदि सामान भी जब्त किया।

दूसरी ओर मध्यप्रदेश गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी कहा है कि, फिलहाल ऑनलाइन बिजनेस की कोई गाइडलाइन नहीं है। जल्द ही इनकी गाइडलाइन बनाई जाएगी। क्योंकि इसमें हथियार भी सप्लाई हो सकती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia