आधी रात को जेएनयू में घुसी कार, छात्राओं के अपहरण का प्रयास, कुलपति से कार्रवाई की मांग

छात्र संगठनों का कहना है कि वे जेएनयू में इस तरह की घटनाओं की कड़ी निंदा करते हैं और पीड़ितों के साथ एकजुटता से खड़े हैं। छात्रों का कहना है कि परिसर में हाल में कई चोरियों और अराजक घटनाओं ने सुरक्षा उपायों की प्रभावशीलता पर गंभीर सवाल उठाए हैं।

जेएनयू में आधी रात को घुसी कार से छात्राओं के अपहरण का प्रयास
जेएनयू में आधी रात को घुसी कार से छात्राओं के अपहरण का प्रयास
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर को महिलाओं के लिए सुरक्षित स्थान माना जाता है। हालांकि इस धारणा के विपरीत 6 जून की रात करीब साढ़े 12 बजे विश्वविद्यालय में एक चौंकाने वाली घटना हुई। छात्रों के मुताबिक यहां हरियाणा नंबर के रजिस्ट्रेशन वाली एक सफेद कार में सवार नशे में धुत कुछ लड़के कैंपस में घुसा आए और इन कार सवार लड़कों ने विश्वविद्यालय परिसर की सड़क पर से दो लड़कियों का अपहरण करने का प्रयास किया। छात्रों ने कार के पंजीकरण नंबर के साथ विश्वविद्यालय को इसकी शिकायत दी है।

जेएनयू के छात्र विकास पटेल के मुताबिक कार के पंजीकरण नंबर के साथ विश्वविद्यालय को इस बाबत आधिकारिक शिकायत दी गई है। छात्र संगठन एबीवीपी से जुड़े विकास पटेल का कहना है कि कार में सवार युवक नशे में थे। अपनी शिकायत में छात्रों ने बताया है कि कार सवार युवकों ने यहां दो लड़कियों के अपहरण का प्रयास किया। एबीवीपी का कहना है कि वह जेएनयू में इस तरह की घटनाओं की कड़ी निंदा करता है और पीड़ितों के साथ एकजुटता से खड़ा है।


गौरतलब है कि दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर को लंबे समय से शहर में महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित स्थानों में से एक माना जाता है। हालांकि, हाल की घटनाओं ने सुरक्षा उपायों की प्रभावशीलता पर गंभीर सवाल उठाए हैं। छात्र संगठनों ने इस घटना को लेकर परिसर की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार सीएसओ को अक्षम करार देते हुए उनके तत्काल इस्तीफे की मांग की है।

एबीवीपी का कहना है कि वह जेएनयू में सुरक्षित और समावेशी परिसर के माहौल की मांग करता है जहां सभी छात्रों, विशेष रूप से महिलाओं की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है। संगठन ने जेएनयू वीसी और विश्वविद्यालय प्रशासन से तत्काल कार्रवाई करने और ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए आवश्यक सुरक्षा उपायों के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने का आग्रह किया है।


छात्र संगठनों का कहना है कि वह जेएनयू में इस तरह की घटनाओं की कड़ी निंदा करते हैं और पीड़ितों के साथ एकजुटता से खड़े हैं। इसके अलावा छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन के समक्ष कानून व्यवस्था के बिगड़ते मामलों को भी सामने रखा। छात्रों का कहना है कि यहां हाल में कई चोरियों और अराजक घटनाओं ने सुरक्षा उपायों की प्रभावशीलता पर गंभीर सवाल उठाए हैं। छात्रों का कहना है इसलिए हम जेएनयू के अक्षम सीएसओ के तत्काल इस्तीफे की मांग करते हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;