योगी का पुतला फूंकने वाले SP कार्यकतार्ओं पर हत्या के प्रयास का केस, 16 को भेजा गया जेल, अधिकतर छात्र

यह प्राथमिकी 4 अक्टूबर को दर्ज की गई थी, जिस दिन एसपी ने लखीमपुर खीरी हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। मेरठ के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने दावा किया कि एसपी कार्यकतार्ओं ने पुलिसकर्मियों पर पेट्रोल फेंका था और पेट्रोल में आग लगने से एक जवान झुलस गया।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ का पुतला जलाने वाले समाजवादी पार्टी के 18 कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने हत्या के प्रयास के आरोप में केस दर्ज किया है। उनमें से 16 को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इनमें अधिकतर छात्र हैं, जिन पर धारा 307 के अलावा, प्रदर्शनकारियों पर प्रतिबंधात्मक आदेशों के बावजूद दंगा और गैरकानूनी सभा करने सहित करीब 15 आईपीसी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

इन सभी पर सीएम योगी का पुतला जलाने से रोकने वाले एक पुलिसकर्मी पर कथित रूप से हमला करने और उसे घायल करने का आरोप लगाया गया है। इस मामले पर एसपी जिलाध्यक्ष राजपाल सिंह ने अब मेरठ के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर कहा है कि गिरफ्तार किए गए लोग निर्दोष युवा हैं, जो केवल विरोध करने के अपने अधिकार का प्रयोग कर रहे थे।

वहीं, मेरठ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) प्रभाकर चौधरी ने सोमवार को दावा किया कि एसपी कार्यकतार्ओं ने पुलिसकर्मियों पर पेट्रोल फेंका था। एसएसपी ने कहा कि पेट्रोल में आग लगने से एक पुलिसकर्मी झुलस गया है। प्राथमिकी 4 अक्टूबर को दर्ज की गई थी, जिस दिन एसपी ने लखीमपुर खीरी हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था।


एसएसपी ने कहा कि विरोध के दौरान पुलिस आयुक्त कार्यालय के पास घटनास्थल पर लगभग 200 एसपी कार्यकर्ता मौजूद थे। लेकिन केवल 18 एसपी कार्यकतार्ओं पर मामला दर्ज किया गया है क्योंकि उन्होंने ड्यूटी पर एक पुलिसकर्मी को चोट पहुंचाई थी। उनकी अपनी पार्टी के कार्यकर्ता भी घायल हो गए है। हमारे एक पुलिस कांस्टेबल को चोटें आईं और उसकी वर्दी जल गई। इस तरह के विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं थी क्योंकि सीआरपीसी की धारा 144 लागू थी।

एससपी नेता राजपाल सिंह ने पूछा कि विरोध कब से एक अपराध बन गया है, जो उन 16 लोगों पर हत्या के प्रयास का आरोप लगाया गया है। इसके अलावा पुलिसकर्मी के घायल होने की सूचना कहां है? आपको लगता है कि कोई व्यक्ति पांच दिनों में बिना चोट के निशान के साथ ठीक हो सकता है? उन्होंने कहा कि पार्टी की युवा शाखा के सदस्य जिन पर इस तरह की गंभीर धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है, उनका आगे का करियर है और उनमें से कई गरीब परिवारों से हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia