भारतीय मिसाइल पाकिस्तान पर गिरने का मामला: राजनाथ सिंह आज संसद में देंगे बयान

मंत्रालय ने एक बयान में कहा था, "9 मार्च, 2022 को नियमित रखरखाव के दौरान एक मिसाइल से तकनीकी खामी के कारण आकस्मिक फायरिंग हुई।" भारत सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और उच्चस्तरीय जांच का आदेश दिया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पाकिस्तान में अनजाने में मिसाइल चलने को लेकर मंगलवार को संसद में बयान देंगे। रक्षा मंत्रालय ने कहा था कि पिछले बुधवार को एक बिना हथियार वाली सुपरसोनिक मिसाइल ने 'गलती से' सिरसा से उड़ान भरी और पाकिस्तानी क्षेत्र के 124 किमी के दायर में उतरी।

पिछले शुक्रवार को रक्षा मंत्रालय ने 'अफसोस के साथ' इसे 'तकनीकी खामी' के कारण हुई घटना बताया।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा था, "9 मार्च, 2022 को नियमित रखरखाव के दौरान एक मिसाइल से तकनीकी खामी के कारण आकस्मिक फायरिंग हुई।" भारत सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और उच्चस्तरीय जांच का आदेश दिया है।

मंत्रालय ने कहा, "पता चला है कि मिसाइल पाकिस्तान के एक क्षेत्र में उतरी। यह घटना बेहद खेदजनक है, लेकिन यह भी राहत की बात है कि दुर्घटना में कोई जनहानि नहीं हुई है।"

उसी दिन, पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने भारत के प्रभारी डी'एफेयरेस को तलब किया था और इसे अपने हवाई क्षेत्र का अकारण उल्लंघन करार दिया था।

इसने एक बयान में नई दिल्ली को 'अप्रिय परिणाम' की चेतावनी दी। वह दावा करता है कि यह भारतीय मूल की, लेकिन अज्ञात ऊंचाई वाली सुपरसोनिक वस्तु थी, जो उसके क्षेत्र में आकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी।


विदेश कार्यालय ने अपने बयान में भारत से भविष्य में इस तरह के उल्लंघन से बचने के लिए प्रभावी उपाय करने का आग्रह किया।

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने कहा कि मिसाइल 40,000 फीट की ऊंचाई पर मंडरा रही थी और भारतीय और पाकिस्तानी दोनों हवाई क्षेत्र में यात्री उड़ानों को खतरे में डाल रही थी, साथ ही नागरिकों और संपत्ति पर भी खतरा था।

पाकिस्तानी सशस्त्र बलों के इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) के महानिदेशक मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने कहा था कि पाकिस्तानी वायुसेना संचालन केंद्र ने 9 मार्च को 18:43 बजे वायु रक्षा प्रणाली द्वारा भारतीय उड़ान क्षेत्र के अंदर एक तेज गति से उड़ने वाली वस्तु देखी थी। वह वस्तु अचानक पाकिस्तानी क्षेत्र की ओर बढ़ गई। उसने पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया और मिया चन्नू के पास गिर गई।

इस घटना पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए इफ्तिखार ने कहा कि कोई मानव हताहत नहीं हुआ।

उन्होंने कहा, "जब वह गिर गई, तो इसने कुछ नागरिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। गनीमत है कि मानव जीवन को कोई नुकसान नहीं हुआ या किसी को चोट नहीं आई।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;