मणिपुर में दो महिलाओं को नग्न परेड कराने के मामले में CBI ने दर्ज की FIR, कुछ दिन पहले वायरल हुआ था शर्मनाक वीडियो

वीडियो वायरल होने और देशभर में इस पर गुस्सा और नाराजगी जाहिर किए जाने बाद राज्य की बीजेपी सरकार हरकत में आई थी। कुछ ही घंटों के भीतर इस मामले से जुड़े कई आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था।

मणिपुर में दो महिलाओं को नग्न परेड कराने के मामले में CBI ने दर्ज की FIR।
मणिपुर में दो महिलाओं को नग्न परेड कराने के मामले में CBI ने दर्ज की FIR।
user

नवजीवन डेस्क

मणिपुर में दो महिलाओं को नग्न परेड कराने के मामले में सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर ली है। इसके साथ ही सीबीआई ने मामले की जांच शुरू कर दी है। नग्न परेड कराने का वीडियो कुछ दिन पहले वायरल हुआ था। इस वीडियो के सामने आने के बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया था। दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई। यह वीडियो करीब तीन महीने पूराना है। यह घटना 4 मई की थी, यानी जब मणिपुर में हिंसा भड़की थी।

वीडियो वायरल होने और देशभर में इस पर गुस्सा और नाराजगी जाहिर किए जाने बाद राज्य की बीजेपी सरकार हरकत में आई थी। कुछ ही घंटों के भीतर इस मामले से जुड़े कई आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। विपक्ष ने बीजेपी सरकार से पूछा कि अगर यह मामला करीब तीन महीना पुराना है तो इसके दोषियों को गिरफ्तार करने में इतनी देरी क्यों की गई? इस मुद्दे पर सरकार बुरी तरह घिरी हुई है।


हंगामे और नाराजगी के बीच सरकार ने यह दिखाने कि कोशिश की कि वह इस मुद्दे को लेकर संवेदनशील है और एक्शन ले रही है। सुप्रीम कोर्ट की फटकार और विपक्ष द्वारा किए जा रहे हमलों के बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस मामले की जांच को सीबीआई को सौंप दिया था। इस संबंध में केंद्र सरकार ने हलफनामा दायर कर सुप्रीम कोर्ट को इस बात की जानकारी दी थी। सरकार ने यह भी कहा था कि वह इस मामले का ट्रायल मणिपुर से बाहर कराने की सिफारिश करेगी।

संसद का मॉनसून सत्र शुरू होते ही मणिपुर मुद्दे पर विपक्ष ने केंद्र और राज्य की बीजेपी सरकार के घेरना शुरू कर दिया। विपक्ष अभी भी यह मांग कर रहा है कि इस मुद्दे पर संसद में चर्चा कराई जाए और पीएम मोदी संसद में आकर इस पर बयान दें। लेकिन सरकार अब तक इसके लिए राजी नहीं हुई है। पीएम मोदी संसद में आएं और बयान दें, इसके लिए विपक्ष ने केंद्र सरकार के खिलाफ एक अविश्वास प्रस्ताव भी पेश किया है, जिसे स्पीकर ने स्वीकर कर लिया था। लेकिन अविश्वास प्रस्ताव पर भी अब तक चर्चा शुरू नहीं हो पाई है। इस बीच इंडिया गठबंधन का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार को दो दिवासीय मणिपुर दौरे के लिए रवाना हुआ। मणिपुर में इंडिया गठबंधन के सांसद शिविरों में हिंसा पीड़ितों से मिलेंगे और उनका हाल जानेंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;