एससी-एसटी छात्रों को फीस का करंट, सीबीएसई ने परीक्षा फीस 24 गुना बढ़ाई, अब 50 के बजाए देना होंगे 1200 रुपए

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी सीबीएसई ने परीक्षा फीस में जबरदस्त वृद्धि की है और इसका सबसे ज्यादा बोझ अनुसूचित जाति और जनजाति के विद्यार्थियों पर पड़ेगा। इस वर्ग के विद्यार्थियों की फीसी में 24 गुना बढ़ोत्तरी हो गई है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

सीबीएसई ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए फीस में बढ़ोत्तरी की है। इस वृद्धि के बाद अनूसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थियों को 50 रुपए की जगह 1200 रुपए देने होंगे। वहीं सामान्य श्रेणी के विद्यार्थियों को 750 रुपए की जगह 1500 देने होंगे। पहले एससी-एसटी विद्यार्थियों को सिर्फ 50 रुपए देने होते थे, लेकिन अब 1200 रुपए देने होंगे, वहीं सामान्य श्रेणी के विद्यार्थियों की फीस दोगुना होकर 750 से 1500 रुपए कर दी गई है।

सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक श्याम भारद्वाज का कहना है कि दिल्ली के छात्रों के लिए वे 750 के बजाए सिर्फ 50 रुपए लेते थे और बाकी राशि दिल्ली सरकार देती थी। लेकिन अब सारा पैसा (बढ़ी हुई 1200 रुपए की फीस) विद्यार्थियों से ही ली जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी श्रेणियों के लिए परीक्षा फीस एक समान है, सिर्फ दिल्ली में ही दिल्ली सरकार एससी-एसटी छात्रों की फीस देती थी। लेकिन अब दिल्ली सरकार चाहे तो छात्रों को सीधे फीस के पैसे दे और यह दिल्ली सरकार और विद्यार्थियों के बीच का मामला है।

सामान्य श्रेणी के विद्यार्थियों की फीस दोगुनी हुई

सीबीएसई ने सामान्य श्रेणी के विद्यार्थियों की फीस दोगुना कर दी है। इन विद्यार्थियों को अब पहले के 750 रुपए के मुकाबले 1500 रुपए देने होंगे। गौरतलब है कि सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा के लिए विद्यार्थियों का पंजीयन 9वीं कक्षा में और 12वीं की परीक्षा के लिए पंजीयन विद्यार्थी के 11वीं कक्षा में रहते ही हो जाता है। ऐसे में सीबीएसई ने स्कूलों के लिए अधिसूचना जारी कर साफ कर दिया है कि अगर स्कूलों ने पंजीयन प्रक्रिया शुरू कर दी है और विद्यार्थियों से पुरानी दर पर फीस वसूल की है तो वे उनसे नई दर के मुताबिक अतिरिक्त राशि वसूल करें।

सीबीएसई ने यह भी साफ कर दिया है कि तय तारीख तक अतिरिक्त फीस जमा नहीं होने की स्थिति में विद्यार्थियों का परीक्षा के लिए पंजीयन नहीं हो सकेगा और वे परीक्षा में नहीं बैठ सकेंगे।

12वीं में अतिरिक्त विषय के लिए अब देने होंगे 300 रुपए

सीबीएसई ने 12वीं कक्षा में अतिरिक्त विषय की परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए भी फीस में बढ़ोत्तरी की है। पहले अतिरिक्त विषय के लिए एससी व एसटी के विद्यार्थियों को कोई अतिरिक्त फीस नहीं देनी होती थी। लेकिन अब यह रियायत खत्म कर दी गई है। नई व्यवस्था के मुताबिक एससी-एसटी छात्रों को अब इसके लिए 300 रुपए देने होंगे। वहीं सामान्य श्रेणी के छात्रों से पहले 150 रुपए लिए जाते थे, जिसे बढ़ाकर अब 300 रुपए कर दिया गया है।

सीबीएसई ने बताया है कि पूर्णता यानी सौ फीसदी दृष्टि बाधित विद्यार्थियों के लिए परीक्षा फीस न भरने की छूट दी गई है। इसके अलावा माइग्रेशन फीस भी बढ़ा दी गई है। अब यह 150 की जगह 300 रुपए हो गई है। साथ ही विदेशों में सीबीएसई स्कूलों में पढ़ रहे विद्यार्थियों को भी दोगुना फीस देनी होगी। पहले इन विद्यार्थियों को 5000 रुपए परीक्षा फीस देनी होती थी, लेकिन अब 10000 रुपए देने होंगे। वहीं 12वीं अतिरिक्त विषय के लिए पहले के 1000 के मुकाबले 2000 रुपए देने होंगे।

लोकप्रिय